Tuesday , October 17 2017
Home / Bihar News / दिल्ली में बी जे पी की कामयाबी मोदी की मरहून-ए-मिन्नत नहीं : नीतिश कुमार

दिल्ली में बी जे पी की कामयाबी मोदी की मरहून-ए-मिन्नत नहीं : नीतिश कुमार

वज़ीर-ए-आला बिहार नीतिश कुमार ने आज एक अहम बयान देते हुए कहा कि चार रियासतों में एसेंबली इंतिख़ाबात के जो नताइज सामने आए हैं वो कांग्रेस मुख़ालिफ़ ज़रूर हैं लेकिन इस कामयाबी में नरेंद्र मोदी का कोई रोल नहीं है।

वज़ीर-ए-आला बिहार नीतिश कुमार ने आज एक अहम बयान देते हुए कहा कि चार रियासतों में एसेंबली इंतिख़ाबात के जो नताइज सामने आए हैं वो कांग्रेस मुख़ालिफ़ ज़रूर हैं लेकिन इस कामयाबी में नरेंद्र मोदी का कोई रोल नहीं है।

उन्होंने वज़ाहत करते हुए कहा कि इस में कोई शक नहीं कि चार रियासतों के नताइज कांग्रेस के हक़ में नहीं है लेकिन बी जे पी को ख़ुशियों से नाचने की कोई ज़रूरत नहीं है। एसेंबली की इमारत के क़रीब अख़बारी नुमाइंदों से बात करते हुए उन्होंने कहा कि बी जे पी के हक़ में कोई लहर नहीं पाई जाती।

एसेंबली नताइज ये बताते हैं कि लोक सभा इंतिख़ाबात में बी जे पी की कारकर्दगी खराब‌ होगी। बी जे पी ने नरेंद्र मोदी को वज़ारत-ए-उज़मा के उम्मीदवार के तौर पर पेश करने का जोह खेला है, वो उसे ले डूबा। दिल्ली के नताइज उसकी मिसाल हैं। यहां इस बात का तज़किरा भी ज़रूरी है कि नीतिश कुमार की जे डी (यू) ने नरेंद्र मोदी को अपना वज़ारत-ए-उज़मा का उम्मीदवार बनाए जाने पर बी जे पी से 17 साला तवील सियासी रिफ़ाक़त का ख़ात्मा कर दिया था।

उन्होंने एक बार फिर दिल्ली इंतिख़ाबात के नताइज का ज़िक्र करते हुए कहा कि इन नताइज को बेहतरीन नताइज नहीं कहा जा सकता क्योंकि अगर कांग्रेस का सफ़ाया ही मक़सूद था तो बी जे पी को दो तिहाई अक्सरियत हासिल करना चाहिए था लेकिन ऐसा हुआ नहीं। लिहाज़ा नविश्ता-ए-दीवार बिल्कुल वाज़िह है।

बी जे पी को लोक सभा इंतिख़ाबात में हज़ीमत उठाना पड़ेगी जैसा कि दिल्ली एसेंबली इंतिख़ाबात के नताइज से ज़ाहिर है। मध्य प्रदेश में कांग्रेस केलिए सिवाए बी जे पी के कोई और मुतबादिल नहीं था और यही बात राजिस्थान और छत्तीसगढ़ के बारे में भी कही जा सकती है लिहाज़ा बी जे पी को फ़तह हासिल हुई।

उन्होंने आम आदमी पार्टी की कामयाबी पर ज़बर्दस्त मुबारकबाद दी और कहा कि बदउनवानियों के ख़िलाफ़ अन्नाहज़ारे ने जो तहरीक चलाई थी, ये कामयाबी इसी तहरीक का नतीजा है। उन्होंने कहा कि ऐसा महसूस होता है कि बी जे पी ने दिल्ली में अपना असर व रसूख़ खो दिया है हालाँकि यहीं से बी जे पी ने जिन सिंह के नाम से अपनी सियासी पार्टी तशकील देते हुए सियासी सफ़र का आग़ाज़ किया था लेकिन अब ऐसा लगता है कि कुछ अर्सा में दिल्ली में बी जे पी की मौत का कुतबा तहरीर कर दिया जाएगा।

दिल्ली इंतिख़ाबात में जे डी (यू) की खराब‌ कारकर्दगी के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि हम ने वहां सिर्फ़ आज़माईश की है। हमारी पार्टी दिल्ली में कभी भी मज़बूत उम्मीदवार नहीं रही। दिल्ली एसेंबली की जुमला 70 नशिस्तों केलिए जे डी (यू) ने 27 नशिस्तों पर इंतिख़ाबात लड़े थे। जब उनसे जे डी (यू) के वाहिद उम्मीदवार शुऐब इक़बाल की कामयाबी और उनके (इक़बाल) आम आदमी पार्टी को ताईद करने के बारे में पूछा गया तो नीतिश कुमार ने कहा कि हम दिल्ली में बी जे पी की हुकूमत तशकील होने नहीं देंगे। उन्होंने कहा कि इस सिलसिला में ख़ुद शुऐब इक़बाल ने भी उनसे बात की है।

TOPPOPULARRECENT