Friday , October 20 2017
Home / India / दिफ़ाई शोबा से मुताल्लिक़ कार्य काफ़ी पेचीदा और हल आसान नहीं

दिफ़ाई शोबा से मुताल्लिक़ कार्य काफ़ी पेचीदा और हल आसान नहीं

फ़ौजी सरबराह जनरल वी के सिंह ने कहा कि हालिया दिनों में दिफ़ाई शोबा से मुताल्लिक़ जो कार्य सामने आए हैं वो पेचीदा नौईयत के थे और उन मुआमलात की मुक़र्ररा हद-ओ-शफ़्फ़ाफ़ियत में रहते हुए यकसूई ज़रूरी हो गई थी। उन्होंने आज यहां फ़ौजी मश्क़ों श

फ़ौजी सरबराह जनरल वी के सिंह ने कहा कि हालिया दिनों में दिफ़ाई शोबा से मुताल्लिक़ जो कार्य सामने आए हैं वो पेचीदा नौईयत के थे और उन मुआमलात की मुक़र्ररा हद-ओ-शफ़्फ़ाफ़ियत में रहते हुए यकसूई ज़रूरी हो गई थी। उन्होंने आज यहां फ़ौजी मश्क़ों शूरवीर का मुशाहिदा किया।

इस मौक़ा पर जनरल वी के सिंह ने कहा कि दिफ़ाई शोबा से मुताल्लिक़ मसाएल पेचीदा हैं और उन का हल इस क़दर आसान नहीं। जब उन से फ़ौज के लिए अस्लाह की कमी और ख़रीदारी में मुबय्यना करप्शन के ताल्लुक़ से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि सारा मुआमला इंतिहाई पेचीदा हो चुका है।

हमें शफ़्फ़ाफ़ियत के दायरा में रहते हुए इसका हल तलाश करना होगा और उन्हें यक़ीन है कि ये अमल अब शुरू हो चुका है और जो कुछ हो रहा है इसके ज़रीया काफ़ी शफ़्फ़ाफ़ियत लाई जा सकेगी। जहां तक फ़ौज का ताल्लुक़ है अगर अचानक जंग हो जाए तो फ़ौज अपनी मुकम्मल सलाहीयतों के साथ साथ पूरे जोश-ओ-ख़ुरोश के साथ हिस्सा लेगी। हमारे पास जो कुछ वसाएल होंगे उन से इस्तेफ़ादा किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि पारलीमानी स्टैंडिंग कमेटी ने ये राय दी थी कि फ़ौज को ख़ातिरख्वाह मिक़दार में अस्लाह-ओ-गोला बारूद जब कभी ज़रूरत हो फ़राहम किया जाना चाहीए और हमारी भी यही राय है। वे के सिंह ने कहाकि बहैसीयत फ़ौजी सरबराह अपनी मीयाद से वो काफ़ी ख़ुश हैं और वो अपने वीज़न पर अमल कर सकेंगे।

ताहम उन्होंने माबाद सुबकदोशी मंसूबों का इन्केशाफ़ नहीं किया। उन्होंने कहा कि हर शख़्स अपनी एक ज़ाती राय लेकर यहां तक पहूँचता है। इसी तरह मेरी अपनी भी राय थी और मुझे ख़ुशी है कि इन में से बहुत सी तजावीज़ पर अमल हो सका। जब उन से पूछा गया कि सुबकदोशी के बाद क्या वो सियासत में हिस्सा लेने का मंसूबा रखते हैं उन्होंने कहा कि फ़िलहाल इस बारे में उन्होंने कुछ नहीं सोचा है।

फ़ौजी मश्क़ों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि साउथ वेस्टर्न कमांड की तैयारी से वो मुतमईन हैं। इन मश्क़ों में कई नई तकनीक़्स को शामिल किया गया है जिस से जंगी तैयारीयों में मदद मिलती है। जनरल वी के सिंह के हमराह दीगर फ़ौजी और फ़िज़ाईया के सीनीयर ओहदेदार भी मौजूद थे।

इन मश्क़ों में फ़िज़ाईया के जंगी तैय्यारों बिशमोल सुखोई 30 , और जैग्वार के इलावा हेली कापटर्स एम आई 25 , एम आई 17 और बिना पायलेट्स के तैय्यारों ने हिस्सा लिया।

TOPPOPULARRECENT