Thursday , September 21 2017
Home / Delhi / Mumbai / देश को मोदी ने पीछे ढकेल दिया

देश को मोदी ने पीछे ढकेल दिया

नई दिल्ली: चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के अध्यक्ष ने 1958 में यह आदेश जारी किया था कि सभी चिड़ियों को मार दिया जाए क्योंकि एक शक्तिशाली नेता का कदम था। उस समय हर एक ने प्रशंसा की थी। किसान परेशान थे कि पक्षी उनके खाद्यान्न को चुग रहे हैं जिस पर चिड़ियों को मारने का जबरदस्त अभियान शुरू किया गया। जब फसलों की हिफ़ाज़त के लिए अनगिनत चिड़ियों को मार डाला गया लेकिन इसके उल्टे परिणाम भी बरामद हुए।

चिड़ियों को मारने से  बड़ी गड़बड़ी हो गई जो चिड़िया फसलों को खराब करने वाले कीड़ों को खा जाते थे। वही चिड़ियों को मार देने से फसलें तबाह हो गईं जिसके परिणाम स्वरूप अकाल और भुखमरी हो गई, केवल 3 साल में 45 लाख लोग मारे गए। चूंकि यह महान नेता माइक का आदेश था। लोगों को मौत का सदमा और कठिनाइयों को झेलना पड़ा और चिड़ियों को मारने का आदेश जनता की मौत का पयाम साबित हुआ जिसके बाद महान नेता के होश ठिकाने पर आ गए और अपनी योजना को खतम कर‌ देना पड़ा।

20 वीं सदी हमें अंधाधुंध परियोजनाओं की चेतावनी दी है, लेकिन हमने कम्युनिस्ट माओवादी और स्टालिन और फासीवादी हिटलर से कोई सबक नहीं सीखा। जबकि 500 और 1000 रुपये के नोटों को रद्द करने के लिए नरेंद्र मोदी का फैसला भी इसी तरह का है। उन्होंने  गलती कर दी। क्योंकि उनका यह कदम, सफल नहीं हो सकता। इसके विपरीत गरीबों के जीवन अस्त-व्यस्त और आर्थिक प्रणाली नष्ट हो जाएगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दावा है कि भ्रष्टाचार और काले धन के खिलाफ यह कदम उठाया गया है लेकिन यह सच है, जबकि 4 मुख्य कारण हाल विश्लेषण के अनुसार केवल 6 प्रतिशत काला धन, नग‌द राशि के रूप में है। दूसरे यह कि 2000 और 500 रुपए के नए नोट चलन में आ गए हैं। ब्लैक मार्किट में पुराने नोटों को नई में परिवर्तन की प्रक्रिया भी जारी है। तीसरा, अर्थशास्त्रियों का कहना है कि इस तरह की कार्रवाई से काला धन बाहर नहीं आ सकता।

शायद वे यह समझते हैं कि गरीब जनता, उच्च मूल्य के नोट उपयोग नहीं करते पूर्व में 1000 रुपये के नोट 1978 में रद्द कर दी गई थी और यह नोट आज शक्ति खर्च के हिसाब से 12,000 रुपये की हो गई है। गोका दौलतमंद इन नोटों की शक्ल में ब्लैक मनी छुपा सकते हैं लेकिन ग़रीब जनता उपयोग नहीं कर सकते। जबकि आज 500 रुपये के नोट का मूल्य 1978 में 50 रुपये के बराबर है।

भारत में 90 प्रतिशत लेनदेन नकदी होता है तो 90 प्रतिशत राशि को काले धन करार नहीं दिया जा सकता। इन हालात में मोदी का कदम विनाशकारी साबित हो सकता है। इस साल मार्च तक आरबीआई के आंकड़ों के अनुसार केवल 53 प्रतिशत भारतीयों के पास बैंक खाते हैं। यह कैसे संभव है कि अन्य 600 मिलियन लोग अपनी रख़म कहाँ छिपा रख सकते हैं।

300 मिलियन नागरिकों के पास सरकारी पहचान पत्र नहीं है जबकि करोड़ों लोग, अपनी मेहनत की कमाई को बदलने में असमर्थ हैं। क्योंकि उनके पास बैंक खाते नहीं हैं और आवश्यक नोटों मुद्रण के लिए सरकार को अधिक 6 महीने की आवश्यकता होगी, लेकिन हर रोज मरने वालों की संख्या बढ़ रही है, गांवों में किसान मुसीबत में घेरा हुआ और जनता आक्रोश में नजर आ रहे हैं। विडंबना यह है कि नरेंद्र मोदी एक दक्षिणपंथी प्रतिगमन समलैंगिक नेता होने के बावजूद कम्युनिस्ट विचारधारा का पालन करते है जहां जनता को सही हक़ नहीं होता।

TOPPOPULARRECENT