Friday , October 20 2017
Home / Entertainment / धर्मेन्द्र के इश्क ने कर दिया था मीना कुमारी को शराबी बनने पर मजबूर

धर्मेन्द्र के इश्क ने कर दिया था मीना कुमारी को शराबी बनने पर मजबूर

महज 40 साल की उम्र में महजबीं उर्फ मीना कुमारी खुद-ब-खुद मौत के मुँह में चली गईं उनके वालिद अली बक्श भी फिल्मों में और पारसी स्तेज के एक मंझे हुये अदाकार थे और उन्होंने कुछ फिल्मों में मूसीकार का भी काम किया था उनकी वालिदा प्रभावती द

महज 40 साल की उम्र में महजबीं उर्फ मीना कुमारी खुद-ब-खुद मौत के मुँह में चली गईं उनके वालिद अली बक्श भी फिल्मों में और पारसी स्तेज के एक मंझे हुये अदाकार थे और उन्होंने कुछ फिल्मों में मूसीकार का भी काम किया था उनकी वालिदा प्रभावती देवी (बाद में इकबाल बानो), भी एक मशहूर डांसर और अदाकारा थी जिनका ताल्लुक टैगोर खानदान से था|

मीना ने पहली मरतबा किसी फिल्म के लिये छह साल की उम्र में काम किया था उनका नाम मीना कुमारी विजय भट्ट की खासी मशहूर फिल्म बैजू बावरा पड़ा| मीना कुमारी की शुरुआती फिल्में ज्यादातर Mythology थी मीना कुमारी के आने के साथ हिंदुस्तानी सिनेमा में नयी अदाकारा का एक खास दौर शुरु हुआ था जिसमें नरगिस, निम्मी, सुचित्रा सेन और नूतन शामिल थीं|

1953 तक मीना कुमारी की तीन कामियाब फिल्में आ चुकी थीं जिनमें : दायरा, दो बीघा ज़मीन और परिणीता शामिल थीं| परिणीता से मीना कुमारी के लिये एक नया दौर शुरु हुआ परिणीता में उनकी अदाकारी ने हिंदुस्तानी ख्वातीन को खास मुतास्सिर किया था चूकिं इस फिल्म में हिंदुस्तानी ख्वातीन की आम जिदगी की तकलीफ़ों को ज़ाहिर करने की कोशिश की गयी थी लेकिन इसी फिल्म की वजह से उनकी शबिया (Image) सिर्फ़ अफसोसनाक किरदार (Tragic roles) करने वाले की होकर रह गयी|

लेकिन ऐसा होने के बावज़ूद उनके अदाकारी की खास तर्ज़ और आवाज़ का जादू सामईन पर हमेशा छाया रहा|

मीना कुमारी की शादी मशहूर फिल्म साज़ कमाल अमरोही के साथ हुई, लेकिन मीना अमरोही से 1964 में अलग हो गयीं फिल्म फूल और पत्थर (1966) के हीरो धर्मेन्द्र से वह एक तरफ़ा इश्क करने लगीं| फिल्म इंडस्ट्री में मुकाम बनाने के लिए जद्दो जहद कर रहे धर्मेन्द्र को भी मीना जैसी अदाकारा का सहारा मिला और उन्होंने करियर को आगे बढ़ाने के लिए मीना का सहारा लिया|

मीना की सिफारिश पर धर्मेन्द्र को कई फिल्मों में काम मिला, लेकिन कई तरह के गॉसिप और गरमा-गरम खबरों से फिल्मी मैग्ज़ीन के सफा रंगे जाने लगे|

इसके बाद धर्मेन्द्र ने भी उनका साथ छोड़ दिया और मीना गम में डूब गयीं अकेलेपन को दूर करने के लिए उन्होंने शराब को अपना हमसफ़र बनाया वह पहली अदाकारा थीं, जिन्होंने बॉलीवुड में पराए मर्दों के बीच बैठकर शराब पी | धर्मेन्द्र की बेवफाई ने मीना को अकेले में भी पीने पर मजबूर किया इसके बाद मीना को ब्लड कैंसर हुआ और एक दिन वह हमेशा के लिए इस दुनिया को अलविदा कह गईं |

बशुक्रिया: पलपल इंडिया

TOPPOPULARRECENT