Thursday , October 19 2017
Home / Delhi / Mumbai / धार्मिक विश्वासों में अदालतों के हस्तक्षेप

धार्मिक विश्वासों में अदालतों के हस्तक्षेप

मुंबई: महाराष्ट्र में एक धार्मिक अनुष्ठान ‘दही हांडी’ के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट की सीमाएं पर कट्टरपंथी रुख अपनाते हुए शिवसेना ने आज कहा है कि हिंदू त्योहारों में बाधित करने के प्रयासों को जनता विफल बनादेंगे। पार्टी ने कहा कि गणेश उत्सव, दही हांडी और नवरात्र महोत्सव हिंदुओं के विश्वासों का एक हिस्सा हैं।

अदालत चूंकि आदेश चलाने के आदी हो गए हैं, कम से कम धार्मिक मामलों में लक्ष्मण रेखा (सीमा) से आगे न बढ़ें। जनता ने लोकतांत्रिक तरीके से सरकार के लिए नहीं चुना है और यह काम सरकार को करने दिया जाए और सरकार के उच्च संस्था जानते हैं कि क्या गलत है और क्या सही है। अगर सरकार के मुखिया उपेक्षा और लोकतंत्र की हत्या की कोशिश की गई तो राष्ट्रीय प्रणाली के सभी ……… रुक हो जाएंगी।

शिवसेना के प्रवक्ता ‘सामना’ के संपादकीय में कहा गया है कि हिंदुओं के पर्व और त्योहार में किसी भी रचनाएँ बाधित करने की कोशिश की गई तो जनता उसे विफल बनादेंगे। शिवसेना व्यक्त नाराजगी नेतृत्व करेगी। जब अदालतें सरकार की भूमिका निभाने लगे तो उन्हें अपमान का सामना करने भी तैयार रहना होगा। क्योंकि अब अदालतें सभी निर्णय लेने लगी हैं। जिसकी उम्मीद सरकार से जुड़े रहे हैं।

शिवसेना ने कहा कि त्योहारों के खिलाफ अदालतों के आदेशों से जनता में आक्रोश पैदा हो गया है। न्यायपालिका पर शिवसेना का यह रिमार्क ऐसे समय आया है जबकि मुख्यमंत्री देवेंद्र फडिंवीस कल दे बर्तन समन्वय समिति सदस्यों को यह आश्वासन दिया है कि सुप्रीम कोर्ट में उक्त मामले की अगली सुनवाई के अवसर पर महाराष्ट्र के एडवोकेट जनरल राज्य का प्रतिनिधित्व करेंगे। गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में यह आदेश जारी किया था कि दही हांडी की ऊंचाई 20 फुट से अधिक न हो। मानव पिरामिड में 18 साल से कम उम्र के लड़कों को शामिल न किया जाए जिससे दही हांडी मंडलयों (आयोजकों) में निराशा पैदा हो गया है।

TOPPOPULARRECENT