Wednesday , October 18 2017
Home / India / नए साल में 5 लाख मुलाज़मतों के मौक़े

नए साल में 5 लाख मुलाज़मतों के मौक़े

नई दिल्ली, ०३: जनवरी (एजैंसीज़) नौकरी ढ़ूढ़ने वाले नौजवानों के लिए नया साल बहुत सारी ख़ुशीयां लासकता है क्योंकि माहिरीन को तवक़्क़ो है कि इक़तिसादी माहौल में ग़ैर यक़ीनी सूरत-ए-हाल के बावजूद 2012 के दौरान कंपनीयां 5 लाख नए मुलाज़मीन की तक़

नई दिल्ली, ०३: जनवरी (एजैंसीज़) नौकरी ढ़ूढ़ने वाले नौजवानों के लिए नया साल बहुत सारी ख़ुशीयां लासकता है क्योंकि माहिरीन को तवक़्क़ो है कि इक़तिसादी माहौल में ग़ैर यक़ीनी सूरत-ए-हाल के बावजूद 2012 के दौरान कंपनीयां 5 लाख नए मुलाज़मीन की तक़र्रुरी अमल में ला सकती हैं।

रोज़गार बार ज़ार की ख़ुशीयों में इज़ाफ़ा करते हुए 2012 -ए-में मुलाज़मीन की तनख़्वाहों में दोगुना इज़ाफ़ा की तवक़्क़ो है । एग्ज़ीकीटीव सर्च फ़ार्म ग्लोबल हिऩ्ट्स के डायरैक्टर सुनील गोविल का कहना है कि अगर सब कुछ ठीक रहता है तो हुकूमत और बाज़ार की सूरत-ए-हाल की पालिसीयों की बिना पर सभी शोबों में 5 लाख से ज़ाइद लोगों को नौकरी देने के मवाक़े फ़राहम किए जाएंगे

हिंदूस्तानी नौकरी बाज़ार पर 2011 -ए-में आलमी इक़तिसादी ग़ैर यक़ीनी सूरत-ए-हाल का असर वाक़्य हुआ। लेकिन ग़ैर मुतवक़्क़े तौर पर मज़बूती से उभरा और कंपनीयों ने फ़आल तौर पर पुरउम्मीद रवैय्या अपनाया।

TOPPOPULARRECENT