Wednesday , October 18 2017
Home / India / नकसलाईटस सालाना 140 करोड़ रुपय बटोर रहे हैं : हुकूमत

नकसलाईटस सालाना 140 करोड़ रुपय बटोर रहे हैं : हुकूमत

नई दिल्ली ज़बरदस्ती रक़ूमात की वसूली, 10 साल के दौरान 5,024 शहरीयों का क़त्ल, राज्य सभा में तहरीरी जवाब

नई दिल्ली

ज़बरदस्ती रक़ूमात की वसूली, 10 साल के दौरान 5,024 शहरीयों का क़त्ल, राज्य सभा में तहरीरी जवाब

हुकूमत ने आज कहा कि नक्सलाईटस ने ज़बरदस्ती रक़ूमात की वसूली के ज़रिया सालाना 140 करोड़ रुपये वसूल किए हैं। मुख़्तलिफ़ ज़राए से नक्सलाईटस दौलत बटोर रहे हैं। इस तरह 10 साल के दौरान नक्सलाईटस की इंतेहा पसंदाना सरगर्मीयों की वजह से 5,024 शहरी हलाक हुए हैं।

इन में ज़्यादा तर कबायली अफ़राद हैं। बाएं बाज़ू इंतेहा पसंदाना ग्रुप्स से ताल्लुक़ रखने वाले अफ़राद ने सन‌त कारों, ताजिरों, कॉन्ट्रैक्टर्स‌ ख़ासकर तांडा पट्टा, कॉन्ट्रैक्टर्स, ट्रांसपोर्टर्स सरकारी मुलाज़मीन से लेवी की शक्ल में ज़बरदस्ती रक़ूमात वसूल की हैं। नक्सलाईटस की जानिब से ज़बरदस्ती रक़ूमात की वसूली की दुरुस्त तादाद बताना मुश्किल है।

राज्य सभा में एक तहरीरी जवाब देते हुए मुमलिकती वज़ीर-ए-दाख़िला प्रतिभा भाई चौधरी ने कहा कि सी पी आई मोंइस्ट की जानिब से मुख़्तलिफ़ वसाइल के ज़रिए सालाना 140 करोड़ रुपये हासिल किए जा रहे हैं। नक्सलाईटस की जानिब से शहरीयों की हलाकत के बारे में वज़ीर ने बताया कि मोइस्टों ने ज़्यादा तर देही अवाम को हलाक किया है।

इन में कबायली तबक़े के लोगों की अक्सरीयत है। मासूम शहरीयों के साथ ज़ोर ज़बरदस्ती करना, जिन्सी हिरासानी और बच्चों को ज़बरदस्ती नक्सलिज़म‌ में शामिल करने के वाक़ियात हुए हैं। चौधरी ने मज़ीद कहा कि नक्सलाईटस की जानिब से कबायली ख़वातीन कैडरस के ख़िलाफ़ भी जिन्सी हिरासानी के वाक़ियात आम हैं।

अडिसा, महाराष्ट्र , बिहार, झारखंड और दीगर रियासतों के ख़ुदसपुर्दगी इख़तियार करनेवाली ख़ातून मोइस्टों का कहना है कि उनके साथ जिन्सी ज़बरदस्ती की जाती है। इस्मत रेज़ि, ज़बरदस्ती शादियां और सीनियर मर्द सी पी आई मोइस्टों की जानिब से हिरासानी की जाती है। ये भी इल्ज़ामात हैं कि सी पी आई मोइस्ट की जो ख़वातीन हामिला होती हैं, उन्हें उनकी मर्ज़ी के ख़िलाफ़ इसक़ात-ए-हमल के लिए मजबूर किया जाता है।

TOPPOPULARRECENT