Friday , July 21 2017
Home / Assam / West Bengal / नक्सलाइट्स आंदोलन नए दुश्मन भाजपा-आरएसएस

नक्सलाइट्स आंदोलन नए दुश्मन भाजपा-आरएसएस

कोलकाता: प्रतिष्ठित नक्सलाइट्स नेताओं का कहना है कि वे क्षेत्रों से खाली समाज स्थापित करने में विफल हुए और उनका नारा ” चीन का चेयरमैन हमारा चेयरमैन ” अब सुनने में नहीं आता है लेकिन उनके विचार और नक्सलाइट्स संघर्ष अभी भी मेल खाते है।

उन्होंने कहा कि दुश्मन मिजाज़‌ बदला है, पहले तानाशाह जमींदार हुआ करते थे और अब भाजपा। आरएसएस ने यह काम संभाल लिया है। पूर्व नक्सलाइटस जैसे विरह विरह राउ और संतोष राणा के साथ मौजूदा दौर के नेताओं जैसे दीपांकर भट्टाचार्य ने उन विचारों को व्यक्त किया है।

उन्होंने कहा कि उनके दुश्मनी शुरू हुए भले ही 50 साल बीत चुके लेकिन उनके विचार आज भी प्रासंगिकता रखते हैं जबकि भाजपा। आरएसएस सरकार देश को विभाजित करने और समाज को धार्मिक पदों पर बांट देने के दर पे है। पूर्व नकसलाईट नेता विरह विरह राउ ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि हमने क्षेत्रों से खाली समाज बनाने देने के लिए जमींदारों के खिलाफ लड़ाई लड़ी।

हमें सफलता तो नहीं हुई लेकिन हमारे उद्देश्य आज स्थिति में अधिक महत्वपूर्ण हो गए हैं क्योंकि भाजपा। आरएसएस नेतृत्व वाली सरकार देश और समाज को विभाजित कर देना चाहती है। अब वही हमारे असली दुश्मन हैं और उनसे संयुक्त रूप से लड़ना चाहिए। एक अन्य पूर्व नक्सलाईट संतोष राणा ने कहा कि मोदी। आरएसएस मिलकर भारत को अपनी गौरक्षा-और घर वापसी नीतियों द्वारा पीछे से लाया की कोशिश कर रही हैं। ऐसे समय में नक्सल वारी आंदोलन सिद्धांतों और शिक्षा अब अधिक पहले कभी असंगत रखते थे। नक्सलवारी विद्रोह 25 मई 1967 को उत्तरी बंगाल जिले दार्जिलिंग में गांव नक्सलवारी शुरू हुई थी, जबकि 11 ग्रामीणों को पुलिस ने मार डाला था।

TOPPOPULARRECENT