Saturday , September 23 2017
Home / Delhi / Mumbai / नक्सलाइट्स प्रभाव में राज्यों के चीफ मिनिस्टर्स की बैठक

नक्सलाइट्स प्रभाव में राज्यों के चीफ मिनिस्टर्स की बैठक

नई दिल्ली: नक्सलाइट्स प्रभाव में राज्यों के चीफ मिनिस्टर्स नई दिल्ली में कल उच्चस्तरीय सियोल और पुलिस अधिकारियों के साथ एक बैठक आयोजित करेंगे ताकि सशस्त्र विद्रोहियों से निपटने के तरीकों के लिए एक नई रणनीति निर्धारित किया जाए। यह बैठक 25 अर्धसैनिक सदस्यों स्टाफ छत्तीसगढ़ में माउस्टों एक समूह के हाथों दो सप्ताह बाद आयोजित किया जा रहा है।

इसकी अध्यक्षता संभावना है कि केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह करेंगे। उम्मीद है कि इससे नक्सलाइट्स रणनीति में मदद मिलेगी और अर्धसैनिक लोगों के खिलाफ युद्ध में स्थिरता पैदा होगी। छत्तीसगढ़ और अन्य राज्यों में आगामी सप्ताह में धावे किए जाने की संभावना है। गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि छत्तीसगढ़ ‘झारखंड’ ओडिशा ‘पश्चिम बंगाल’ बिहार ‘महाराष्ट्र’ तेलंगाना ‘उत्तर प्रदेश’ मध्यप्रदेश और आंध्र प्रदेश के चीफ़ मिनिस्टर्स इस महत्वपूर्ण बैठक में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया है।

जिला मजिस्ट्रेट और 35 राज्य के जो नक्सलाइट्स से बुरी प्रभावित जिलों रखते हैं पुलिस सुप्रिटेंडे‍ट‌ को अर्धसैनिक संगठनों और सयान्ती विभागों के प्रमुखों के साथ बैठक के लिए आमंत्रित किया गया है। उम्मीद है कि बैठक में विभाग पता सेवा संचालन और प्रणाली को मजबूत बनाने के तरीकों पर विचार किया जाएगा।

बारीकी से सभी जारी कार्यों का विश्लेषण किया जाएगा। समस्याओं से त्रस्त क्षेत्रों की पहचान की जाएगी और बेहतर परिणाम के लिए समाधान खोजे जाएंगे। बातचीत शीर्ष विषय नक्सलाइट्स रणनीति संगठन अभिनव ‘यह अधिक प्रभावी बनाने और हताहतों की संख्या कम करने पर विचार किया जाएगा। केंद्रीय गृहमंत्री ने सयान्ती अधिकारियों से कहा है कि नक्सलवादियों का सिलसिलेवार हमलों समस्या के समाधान पर सामान्य प्रक्रिया से हटकर विचार किया जाना चाहिए।

सयान्ती स्टाफ को गड़बड़ज़दा क्षेत्रों में सड़कों की मरम्मत और विकास कार्यों पर ध्यान देना चाहिए। सड़कों का निर्माण और अन्य विकास गतिविधियों पर भी चर्चा की जाएगी जिनसे प्रोजेक्ट्स की तेजी से समाप्त हो सकती है। केंद्रीय गृह मंत्रालय के अधिकारियों का कहना है कि वर्तमान में 90 प्रतिशत माउसट गतिविधियाँ 35 जिलों तक सीमित हैं।

हालांकि उनसे कहा गया था कि 10 राज्यों के 68 जिलों में केवल कुछ क्षेत्र नक्सलाइट्स स्थिर गढ़ हैं लेकिन नक्सलाइट्स पदचिह्न क्षेत्र उनकी उम्मीद से अधिक संख्या में सामने आए। नक्सलाइट्स नवीनतम तकनीक का उपयोग भी कर रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT