Sunday , July 23 2017
Home / Delhi News / नक्सली हिंसा और आतंकवादी घटनाओं में जवान शहीद हो रहे हैं और सरकार को विजय दिवस मनाने से फुर्सत नहीं है- कांग्रेस

नक्सली हिंसा और आतंकवादी घटनाओं में जवान शहीद हो रहे हैं और सरकार को विजय दिवस मनाने से फुर्सत नहीं है- कांग्रेस

नई दिल्ली। पाकिस्तानी सेना द्वारा भारतीय जवानों के साथ किए गए बर्बर बर्ताव की कड़ी निंदा करते हुए कांग्रेस ने मंगलवार केन्द्र सरकार से कड़ी कार्रवाई की मांग की। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि मोदी सरकार को चूड़यिां उतारकर पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देना चाहिए।

उन्होंने कहा कि संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) सरकार के समय भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की एक सांसद ने आतंकवादी घटनाओं पर तत्कालीन प्रधानमंत्री को चूड़यिां भेजने की बात कही थी। सिब्बल ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी का नाम लिए बगैर कहा कि वह सांसद अब मंत्री हैं। मैं पूछना चाहता हूं कि वह अपने प्रधानमंत्री को चूड़यिां कब भेजेंगी। मोदी सरकार को अपनी चूड़यिां उतारकर पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देना चाहिए। हमें पूरा भरोसा है कि सरकार हमारी उम्मीदों को पूरा करेंगी।

उन्होंने कहा कि वर्ष 2013 के हेमराज प्रकरण पर भाजपा की वरिष्ठ नेता सुषमा स्वराज ने एक के बदले दस सिर लाने की बात कही थी। अब मोदी सरकार को बताना चाहिए कि दो के बदले कितने सिर आने चाहिए। कांग्रेस नेता ने कहा कि मोदी सरकार की पाकिस्तान के प्रति कोई नीति नहीं है, जिससे आतंकवाद और हिंसा की घटनाएं बढ़ रही है। देश में पूर्णकालिक रक्षा मंत्री नहीं है तो पूर्ण कालिक रक्षा नीति भी नहीं बनेगी।

सिब्बल ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में आतंकवादी घटनाओं में अगस्त 2011 से मई 2014 तक 50 नागरिक और 103 जवान मारे गए थे। मोदी सरकार के पिछले 35 महीनों में 91 नागरिक और 198 जवान मारे गए हैं। इसी अवधि में संप्रग के कार्यकाल में संघर्षविराम के उल्लंघन के 470 मामले और घुसपैठ के 85 मामले सामने आए थे।

मोदी सरकार के कार्यकाल में संघर्षविराम के 1343 मामले और घुसपैठ के 100 मामले हुए हैं। नक्सलवादी हिंसा में भी वृद्धि हुई है। उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार विधानसभा चुनाव जीतने के बाद विजय दिवस मनाने में जुटी है, जबकि देश में कानून व्यवस्था की स्थिति खराब हो गई है। नक्सली हिंसा और आतंकवादी घटनाओं में जवान शहीद हो रहे हैं और सरकार को विजय दिवस मनाने से फुरसत नहीं है।

TOPPOPULARRECENT