Thursday , October 19 2017
Home / Khaas Khabar / नजीब की मां ने भेजा टाईम्स ऑफ इंडिया, जी मीडिया और टाइम्स नाउ को लीगल नोटिस

नजीब की मां ने भेजा टाईम्स ऑफ इंडिया, जी मीडिया और टाइम्स नाउ को लीगल नोटिस

दिल्ली: जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के लापता छात्र नजीब अहमद की मां फातिमा नफीस ने टाईम्स ऑफ इंडिया और कुछ दूसरे इलेक्ट्रॉनिक मीडिया हाउसेज को लीगल नोटिस भेजा है। उन्होंने यह नोटिस उस गलत खबर को चलाने के लिए भेजा है जिसमें इन मीडिया घरानों ने कहा था कि नजीब का आतंकी संघठन आईएसआईएस से जुड़ने के फिराक में था।

बता दें कि टाईम्स ऑफ इंडिया अखबार ने 21 मार्च 2017 के अपने राष्ट्रीय संस्करण में कहा कि नजीब गूगल और यूट्यूब पर आतंकी संगठन आईएसआईएस के बारे में जानकारी जुटा रहा था। वह आईएस की विचारधारा, कार्यशैली और नेटवर्क के बारे में जानना चाहता था। हालांकि, बाद में दिल्ली पुलिस ने ऐसी किसी रिपोर्ट से इंकार किया है।

इसके बाद 22 मार्च को नजीब की मां ने एक प्रेस कांफ्रेंस कर टाईम्स ऑफ इंडिया और दूसरे मीडिया चैनलों से पूछा था कि उन्होंने ये खबर किस आधार पर चलाया है। उन्होंने कहा था कि जब से उन्होंने ये खबर सुनी है तब से घर में मातम छाया हुआ था।

उन्होंने कहा था, “मेरे बेटे को फंसाया जा रहा है। मैं मीडिया से अच्छे की उम्मीद करती थी। अगर मीडिया ही इस तरह से गैर-जिम्मेदाराना खबर दिखाएगी तो हम लोग किस पर भरोसा करेंगे। हमें मीडिया से उम्मीद रहती है कि कुछ अच्छी खबर देगी। लेकिन मेरे बेटे के साथ तो कुछ और ही हो रहा है।”

उसके बाद नजीब की मां ने कहा था, “मुसलमान तो देश के लिए कुर्बानी देता है, गद्दारी नहीं करता है। फिर मेरा बेटा आईएसआईएस में कैसे शामिल हो सकता है। मैं सुना करती थी कि लोगों को फंसाया जा रहा है। लेकिन आज देख भी लिया। पुलिस कहती है कि आईएसआईएस से जुड़ने की कोई खबर नहीं है। लेकिन मीडिया उसे आतंकी दिखा रही है। मेरे बेटे का क्या कसूर है? क्या उसका ये कसूर है कि वह जेएनयू पढ़ रहा था?”

उसके बाद इन्होंने टाइम्स ऑफ इंडिया अखबार से इस गलत खबर को चलाने के लिए माफी मांगने को कहा था। उसके बावजूद अखबार ने कोई माफीनामा प्रकाशित नहीं किया था।

हालांकि अखबार ने 22 मार्च अपने पेज नंबर 5 पर उसने एक खबर को प्रकाशिता किया था जिसमें दिल्ली पुलिस के डीजीपी ने साफ कहा था कि नजीब का इस तरह का कोई संबंध आईएसआईएस या दूसरे संगठनों से नहीं था।

इसी खबर को लेकर अब फातिमा नफीस ने अपने वकील वृंदा ग्रोवर के माध्यम से टाइम्स ऑफ इंडिया, टाइम्स नाउ, जी न्यूज और अजतक चैनल को कानूनी नोटिस भेजा हैं। इस नोटिस में उन्होंने मांग की है कि ये सभी मीडिया घराने अपने गलत और अपमानजनक रिपोर्ट के लिए माफी मांगें।

इसके अलावा टीओआई कानूनी नोटिस के जरिए मांग की गई है कि सात दिनों तक लगाता वो अपने प्रथम पृष्ठ पर माफीनामा छापे। नोटिस में यह भी मांग की गई है कि इस खबर को सभी पोर्टल्स, सोशल मीडिया अकाउंट और वेबसाइट हटाया जाए।

इसमें यह कहा गया है कि ट्विटर खाते से सात दिनों तक हर दो घंटों में एक ट्वीट करें मीडिया घराने माफी मांगें और लोगों को बताएं की जो खबर उन्होंने चलाई थी वो गलत और आधारहीन था। इसके लिए 7,500 लोगों ने हस्ताक्षर किया है।

वहीं दूसरी तरफ जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष मोहित पांडे ने मांग की है कि जिन पत्रकारों ने ये खबर को प्लांट किया, विशेषकर टाइम्स ऑफ इंडिया के पत्रकार राजशेखर झा इसके लिए माफी मांगें।

TOPPOPULARRECENT