Saturday , October 21 2017
Home / Islami Duniya / नया पाकिस्तान नहीं इस्लामी पाकिस्तान चाहीए: सिराज उल-हक़

नया पाकिस्तान नहीं इस्लामी पाकिस्तान चाहीए: सिराज उल-हक़

अमीर जमात-ए-इस्लामी पाकिस्तान सिराज उल-हक़ ने कहा है कि पाकिस्तान 18 करोड़ अवाम की बस्ती है। जागीरदार और कुरपट हुकमरानों की वजह से आज हमारा मुल्क मक़रूज़ बिन चुका है। ग़ुर्बत, महंगाई और बेरोज़गारी उरूज पर है। मुल्क में ख़ौफ़ की फ़िज़ा है।

अमीर जमात-ए-इस्लामी पाकिस्तान सिराज उल-हक़ ने कहा है कि पाकिस्तान 18 करोड़ अवाम की बस्ती है। जागीरदार और कुरपट हुकमरानों की वजह से आज हमारा मुल्क मक़रूज़ बिन चुका है। ग़ुर्बत, महंगाई और बेरोज़गारी उरूज पर है। मुल्क में ख़ौफ़ की फ़िज़ा है।

हुकमरान और अवाम महफ़ूज़ नहीं। हमें नया पाकिस्तान नहीं इस्लामी पाकिस्तान चाहीए। इन ख़्यालात का इज़हार उन्हों ने जमात-ए-इस्लामी के ज़िलई अमीर मौलाना सलीम अल्लाह अरशद की तरफ़ से उनके एज़ाज़में दिए गए इशाईया के मौक़ा पर उनकी रिहायश गाह पर जमात-ए-इस्लामी के ज़िम्मादारान, मोअज़्ज़िज़ीन इलाक़ा और सहाफ़ीयों से किया।

सिराज उल-हक़ ने कहा कि अगरमुल्क की मौजूदा सूरत-ए-हाल पर क़ाबू ना पाया गया तो ख़ुदा-ना-ख़ासता मुल्क में इराक़ और शाम की तरह लश्कर बनेंगे। लोग आपस में लड़ेंगे। इस लिए पाकिस्तानी क़ौम को चाहीए कि इस्लामी पाकिस्तान के लिए जद्द-ओ-जहद करे।

TOPPOPULARRECENT