Thursday , March 30 2017
Home / Bihar News / नशा मुक्त बिहार के समर्थन में मानव शृंखला बना कर आज इतिहास रचेंगे लोग

नशा मुक्त बिहार के समर्थन में मानव शृंखला बना कर आज इतिहास रचेंगे लोग

पटना। बिहार एक बार फिर इतिहास रचने को तैयार है। नशामुक्ति के पक्ष में शनिवार को राज्य में विश्व की सबसे बड़ी मानव शृंखला बनेगी। दो करोड़ से अधिक लोग 45 मिनट तक एक-दूसरे का हाथ थाम कर इसका हिस्सा बनेंगे। यह राज्यव्यापी शृंखला दिन के 12:15 से एक बजे तक बनेगी।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव और शिक्षा मंत्री डॉ अशोक चौधरी पटना के गांधी मैदान में इसका हिस्सा बनेंगे। यहां मानव शृंखला के जरिये बिहार का मानचित्र बनाया जायेगा। वहीं, राज्य के अन्य मंत्री और विभाग के प्रधान सचिव अपने-अपने प्रभारवाले जिलों में इसका नेतृत्व करेंगे।

जदयू, राजद, कांग्रेस और भाजपा समेत अधिकतर राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि भी इसमें शामिल होंगे। सांसद, विधायक, विधान पार्षद समेत राजनीतिक दल के लोग, स्कूल-कॉलेज की छात्र-छात्राएं, सरकारी कर्मचारी इसमें शामिल होंगे। मानव शृंखला की वीडियोग्राफी के लिए सभी जिलों में एक-एक ड्रोन के साथ वीडियोग्राफी दल को भेज दिया दिया गया है।

साथ ही राज्य सरकार के चार हेलीकॉप्टर से भी एरियल फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी की जायेगी। इसके अलावा इसरो और अंतरराष्ट्रीय सेटेलाइट से भी पूरे राज्य की मानव शृंखला की एक साथ फोटोग्राफी होगी। इसे विश्व रिकॉर्ड में शामिल कराने के लिए लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकाॅर्ड से भी रजिस्ट्रेशन कराया गया है और सरकार उनसे लगातार संपर्क में है। मानव शृंखला बनाने में सहयोग करने के लिए शिक्षा विभाग ने सभी जिलों में एक-एक प्रभारी पदाधिकारी भी प्रतिनियुक्त किया है। साथ ही विभाग के सचिव, अपर सचिव और निदेशकों को भी अलग-अलग प्रमंडलों में भेजा गया है।

मुख्य सचिव अंजनी कुमार सिंह और डीजीपी पीके ठाकुर ने सभी डीएम-एसपी को मानव शृंखला को खुशनुमा माहौल में कराने का निर्देश दिया है। साथ ही जगह-जगह पर एंबुलेंस और पीने के पानी की व्यवस्था की जा रही है। मॉनीटरिंग के लिए पटना मुख्यालय के अलावा जिला व प्रखंडों में अलग-अलग कंट्रोल रूम बनाये गये हैं। जिस क्षेत्र में आबादी नहीं होगी, वहां लोगों को बसों से लाया जायेगा और मानव शृंखला के बाद पहुंचाया जायेगा।

इसमें शामिल होने के लिए क्लास छह से हाइ, प्लस टू, कॉलेज के छात्र-छात्राओं समेत सभी स्तर के जनप्रतिनिधि, सभी विभागों के अधिकारी-कर्मचारी, सभी समुदायों, आम लोगों से अपील की गयी है। राजनीतिक दलों के नेता-कार्यकर्ता भी चेन का हिस्सा बनेंगे, लेकिन इसमें किसी दल का झंडा, बैनर का उपयोग नहीं किया जा सकेगा।

सरकार ने सभी स्कूलों के प्रधानाध्यापक, शिक्षक, आशा दीदी, सेविका सहायिका, पंचायत के मुखिया, सरपंच, वार्ड सदस्य समेत अन्य यह सुनिश्चित करेंगे कि उनकी ओर से लाये जानेवाले लोग सुरक्षित घर लौट गये हों। इसके बाद ही वे लोग लौटेंगे। यह सभी की नैतिक जिम्मेदारी के साथ-साथ निजी जवाबदेही भी है. सरकार ने साफ किया है कि मानव शृंखला 12:15 से एक बजे तक बनेगी। इसके लिए 11:45 बजे तक निर्धारित रूट में जुट जाएं।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT