Wednesday , August 23 2017
Home / Sports / नहीं मिलेगा टीम इंडिया को ढाई लाख का सूट, बोर्ड ने खारिज किया प्रस्‍ताव

नहीं मिलेगा टीम इंडिया को ढाई लाख का सूट, बोर्ड ने खारिज किया प्रस्‍ताव

PC: File Photo

दिल्ली : भारतीय क्रिकेट टीम के ढाई लाख के सूट, जो अब टीम के सदस्यों को नहीं मिलेगा. बीसीसीआई के सीईओ ने क्रिकेट टीम के लिए इटालियन सूट बनवाने का प्रस्ताव रखा था लेकिन बोर्ड ने इस प्रस्ताव को खारिज कर दिया है. इन सूटों की कीमत ढाई लाख रूपए होती लेकिन बोर्ड ने इस प्रस्ताव को खारिज़ कर दिया है. उन्होंने 19 नवंबर को ई-मेल के जरिए बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर और सेक्रेटरी अजय शिर्के सहित दूसरे स्टाफ सदस्यों से इस बारे में राय मांगी थी, जिसे साफ मना कर दिया गया है। राजीव जौहरी ने अपने ई मेल में बोर्ड से कहा था कि भारतीय टीम को नए आॅफिशियल सूट की जरूरत है। राजीव ने अपने ई मेल में बोर्ड अधिकारियों से सभी खिलाड़ियों के लिए इटैलियन सूट सिलवाने के लिए कहा था। हर एक सूट पर करीब 2.5 लाख की लागत आती। इसके लिए उन्होंनेबोर्ड से हरी झंड़ी देने का अनुरोध भी किया था।

रिपोर्ट्स की माने तो बोर्ड के वरिष्ठ सदस्य राजीव जौहरी के इस सुझाव को एक गैरजरूरी खर्चे के रूप में देख रहें हैं। इतना ही नहीं कहा यह भी जा रहा है कि पिछले कुछ दिनों से बीसीसीआई के खर्चों पर सुप्रीम कोर्ट की गहरी नज़र है और यही कारण रहा है कि क्रिकेटरों के इस अंतराष्ट्रीय ब्रांड की पोशाक की इजाजत नहीं दी जा रही है।
इस संबंध में बीसीसीआई सचिव अजय शिर्के और बीसीसीआई के कानूनी सलाहकार अभिनव मुखर्जी ने इशारे में कहा कि सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार बीसीसीआई कोई भी निर्णय तब तक नहीं कर सकता है जब तक स्टेट संघ और बोर्ड लोढ़ा समिति की सिफारिशों स्वीकार नहीं कर लेते हैं। इसके अलावा अभिनव मुखर्जी ने अपने मेल में कहा है, ‘मेरा सुझाव है कि इस मुद्दे पर लोढ़ा समिति से राय लेनी चाहिए।’

अभिनव मुखर्जी के इस सुझाव को खारिज करते हुए बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर ने कहा कि इस संबंध में लोढ़ा समिति से किसी प्रकार के सलाह मशविरे की जरूरत नहीं है। बीसीसीआई सीईओ राजीव जौहरी के टीम इंडिया के सदस्यों और स्टाफ के लिए 50 नए इटैलियन सूट सिलवाने की सिफारिश को खारिज करते हुए बोर्ड के वरिष्ठ सदस्यों ने कहा कि हम कार्पोरेट कल्चर को बढ़ावा नहीं देते। बोर्ड पहले ही सुप्रीम कोर्ट में केस लड़ रहा है, इस तरह के सुझाव देने से पहले एक बार सोचने की जरूरत है।

TOPPOPULARRECENT