Saturday , October 21 2017
Home / Uttar Pradesh / नहीं मिल रहे कालपोल सिरप व ड्रॉप

नहीं मिल रहे कालपोल सिरप व ड्रॉप

दारुल हुकूमत की दवा दुकानों से बच्चों के बुखार की सबसे पुरानी दवा कालपोल (सिरप व ड्रॉप) गायब होने लगी है। यह दवा खोजने से भी दुकानों में नहीं मिल रही है। सस्ती होने की वजह इस दवा की मांग ज्यादा है। भारत सरकार की तरफ से साल 2013 में जरूरी दवा की कीमतें घटायी गयी थीं जिनमें कालपोल भी शामिल है। कीमत कम होने से मुनाफा घटा और कंपनियों ने सिरप एवं ड्रॉप का प्रोड़कशन कम कर दिया। इस सिलसिले में झारखंड ड्रगिस्ट और केमिस्ट एसोसिएशन, जेसीडीए के जेनरल सेक्रेटरी अमर सिन्हा ने माना है कि दारुल हुकूमत की दवा दुकानों से कालपोल सिरप और ड्रॉप की फ्राहम कम हो रही है।

डॉक्टर लिख रहे हैं कालपोल का ऑप्शन
दारुल हुकूमत के डॉक्टर बुखार होने पर कालपोल दवा नहीं लिखकर इसका ऑप्शन लेने की सलाह दे रहे हैं। डॉक्टर भी मान रहे हैं कि यह दवा बाजार से कम हो गयी है।
एल्ट्रॉक्सीन का मिलना हुआ कम
थायराइड की दवा एल्ट्रॉक्सीन (50 एमजी) भी बाजार में नहीं मिल रही है। थायराइड की दवा खाने वाले मरीज दवा दुकान पर 50 माइक्रो ग्राम की इस दवा को खोज रहे हैं लेकिन दवा मौजूद नहीं है। इस दवा का ऑप्शन लोगों को खरीदना पड़ रहा है। यह दवा तीन महीने से बाजार में नहीं मिल रही है।

क्या कहते हैं एक्सपर्ट
कालपोल का सिरप और ड्रॉप की सप्लाइ कम है, यह सही है। इसका अहम वजह है कि हुकूमत ने इस दवा की कीमत कम की थी। कंपनी को मुनाफा नहीं हो रहा है, इसलिए इन दवाओं का पैदावारी कंपनी ने कम कर दिया है।
अमर सिन्हा, जेनरल सेक्रेटरी, जेसीडीए

सिरप व ड्रॉप कम मिल रहा है। हम कालपोल की जगह दीगर दवाएं मरीजों को लिख रहे है।
डॉ शैलेश चंद्रा, शिशु रोग विशेषज्ञ.

TOPPOPULARRECENT