Tuesday , August 22 2017
Home / India / नाइक के हिमायत में दारूल उलूम, कहा- बिना जांच दोषी न ठहराएं

नाइक के हिमायत में दारूल उलूम, कहा- बिना जांच दोषी न ठहराएं

देवबंद : बांग्लादेश में हुए आतंकवादी हमले में बेगुनाहों की जान जाने के बाद आतंकियों के मुंबई के मुस्लिम धर्म गुरू डा जाकिर नाइक से प्रेरित होने की बातें सामने आने पर उनके खिलाफ चल रहीं खबरों पर दारूल उलूम ने कडा एतराज जताया है। दारूल उलूम से जुडे पदाधिकारी जाकिर नाइक के समर्थन में खुलकर आए हैं। उलेमा-ए-कराम ने केंद्र सरकार को निशाने पर लेते हुए डा जाकिर को बिना किसी जांच के ही दोषी ठहराए जाने को गलत बताया है।
दारूल उलूम के कार्यवाहक मोहतमिम मौलाना खालिक मद्रासी और जमियत उलेमा-ए-हिंद के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना अरशद मदनी ने जारी बयान में कहा कि डा जाकिर के साथ मसलकी वैचारिक मतभेद भले ही हों लेकिन डा नाइक एक इस्लामिक स्कॉलर हैं और वह कुरान के नजरियात का व्याख्यान अपने ढंग से करते हैं। वह किसी दहशतगर्दी का समर्थन नहीं करते। केंद्र सरकार और कुछ संगठन जानबूझ कर उनके खिलाफ जांच से पहले ही बवंडर खडा कर इस्लाम मजहब को बदनाम करने का षड्यंत्र रच रहे हैं। उन्होंने मीडिया ट्रायल पर रोष व्यक्त करते हुए इसकी निंदा की है। मौलाना खालिक मद्रासी और अरशद मदनी ने कहा कि डॉ जाकिर दुनिया में इस्लामी स्कॉलर के रूप में पहचान रखते हैं। दारूल उलूम ने उनके नजरियात पर जो फतवे जारी किए थे उन्हें कुछ संगठन गलत तरीके से पेश कर नाइक के खिलाफ हथियार के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं। यह भी गलत है। संस्था ऎसी संस्थाओं के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगी।

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य मौलाना रशीद फिरंगी महली ने कहा कि नाइक को किनारे किया जाना एक गहरी साजिश का हिस्सा है। उन्होंने कहा-एक व्यक्ति जिसके 1.4 करोड फॉलोअर्स में कुछ आतंकवादी बन गए हों, इसके लिए उसे कैसे जिम्मेदार ठहराया जा सकता है। यह सरासर अन्याय है। मौलाना ने कहा, अगर आपको शक है तो जांच होनी ही चाहिए। हालांकि डायरेक्टर शिब्ली एकेडमी के प्रोफेसर इश्तियाक अहमद जिल्ली ने कहा कि हर व्यक्ति को देश के कानून के भीतर बोलने का अधिकार है, लेकिन मीडिया ट्रायल सही नहीं है। इसी मसले पर ऑल इंडिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के मौलाना यासूब अब्बास ने नाइक का विरोध करते हुए कहा कि जिन लोगों की सोच वहाबी है, वे नाइक के भाषणों से प्रभावित होकर आतंकवाद की तरफ जा रहे थे। नाइक के खिलाफ कडी कार्रवाई होनी चाहिए। उनके भाषणों पर बैन लगना चाहिए और उनसे भारतीय नागरिकता छीन लेनी चाहिए।

TOPPOPULARRECENT