Friday , August 18 2017
Home / Jharkhand News / नाजिया ने सहाफियों से कहा उसके पूरे अहले खाना को फंसाया जा रहा

नाजिया ने सहाफियों से कहा उसके पूरे अहले खाना को फंसाया जा रहा

रांची : विनय महतो की क़त्ल के मुलजिम हिंदी असातिजा नाजिया हुसैन, उसके शौअर अारिफ अंसारी, बेटा और बेटी को सख्त सिक्यूरिटी में अदालत लाया गया। उन्हें अदालती मजिस्ट्रेट चंद्रभानु की अदालत में पेश किया गया। इसी दौरान सहाफियों ने नाजिया से बात करने की कोशिश की। उसने कहा कि उसे और उसके अहले खाना को फंसाया गया है। उसे लेकर धुर्वा इंस्पेक्टर हरिश्चंद्र सिंह, तुपुदाना ओपी इंचार्ज राजीव रंजन , खलारी थाना इंचार्ज हरेंद्र राय समेत कई पुलिस मुलाजिम आये थे। इसके पहले पुलिस ने तमाम मुलजिमों का मेडिकल चेकअप सदर अस्पताल में करवाया।

नाजिया के बेटे ने कहा पुलिस ने टॉर्चर किया

अदालत में नाजिया के बेटे ने सहाफियों से कहा कि पुलिस ने काफी टार्चर किया है। पापा, मम्मी और उसे भी। इसके बाद उसने कुछ अौर बताने से मना कर दिया।सफायर स्कूल वाक़े टीचर्स फ्लैट्स में असातिजा नाजिया हुसैन के फ्लैट से खून लगा वाइपर, परदा जब्त करने के बाद नाजिया हुसैन, उसके शौअर और दोनों बच्चों को हिरासत में लिया गया था। सभी से अलग-अलग पूछताछ की जाने लगी थी, लेकिन पुलिस के सामने कोई भी यह कुबूल नहीं कर रहा था कि विनय की क़त्ल उसी फ्लैट में की गयी है और क़त्ल कर सुबूत छिपाने में पूरा अहले खाना शामिल है। इतना ही नहीं नाजिया और उसके शौहर पुलिस पर ही मुसलसल बरस रहे थे।

इस दौरान पुलिस ने नाजिया और उसके पूरे अहले खाना का तफ्सीलात हासिल कर लिया था। उनके तरफ से इस्तेमाल किये जाने वाले मोबाइल नंबर का कॉल डिटेल भी निकाला जा चुका था। तब सीआइडी के एक अफसर ने नाजिया के सामने कडरू की चर्चा की। कडरू की बात सामने आते ही नाजिया टूट गयी। पुलिस के अफसरों के सामने वह पहली बार नरम पड़ी, लेकिन कुछ बताया नहीं। चुप्पी साध ली। दूसरी तरफ पुलिस के कुछ अफसर असातिजा की बेटी को यह समझाने की कोशिश कर रहे थे कि उसके वालिदैन छूट सकते हैं, लेकिन इसके लिए उसे सच बताना होगा।

उधर, नाजिया के शौहर आरिफ अंसारी को भी मुसलसल तरीके से पूछताछ की जा रही थी। उसे उसके मुस्तकबिल के बारे में बताया जा रहा था। तब वह भी नरम पड़ गया। फिर पुलिस ने आरिफ और नाजिया को एक साथ किया। इसके बाद आरिफ के कहने पर उसके बेटे ने पुलिस को वारदात की जानकारी तफसील से बतायी।

चार फरवरी की रात एक बजे के बाद विनय महतो असातिजा नाजिया के घर पहुंचा था. उस वक्त सिर्फ असातिजा का 16 साला बेटा ही जाग रहा था। असातिजा अपनी बेटी के साथ सोयी हुई थी. असतिज़ा के बेटे ने पुलिस को दिये बयान में कहा है कि डाइनिंग स्पेश में बातचीत के दौरान बहन की चर्चा करने पर विनय के साथ उसका कहासुनी होने लगी। तब उसने विनय के पेट में जोर से घूसा मारा था।

विनय भागना चाह रहा था, लेकिन नाजिया के बेटे ने विनय के सिर को दीवार पर पटक दिया। इसके बाद नाजिया के बेटे ने कई बार उसके सिर को दीवार पर दे मारा। कुछ ही देर में वह अधमरा होकर गिर गया। इसी दौरान उसकी मां जाग गयी। असातिजा ने जब विनय को खून से लथपथ देखा, तो उसने बेटे से कहा… तुमने यह क्या कर दिया।

पुलिस के मुताबिक, असातिजा को लगा कि विनय मर गया। अब क्या किया जाये। घबराहट में असातिजा और उसका बेटा व बेटी यह समझ नहीं सके कि विनय की लाश को क्या किया जाये, जबकि उस वक्त विनय जिंदा था। उसे अस्पताल पहुंचाने पर वह बच भी सकता था, लेकिन असातिजा और उसके अहले खाना ने ऐसा नहीं किया। उसने अपने बेटे के साथ मिल कर विनय को पहले तल्ले के कोरिडोर से नीचे फेंक दिया। नीचे गिरते वक्त विनय ग्रिल से भी टकराया था। वाकिया के कुछ देर बाद जब आर्ट टीचर दुर्वानंद ने विनय को देखा था, तब भी वह जिंदा था।

 

TOPPOPULARRECENT