Friday , July 28 2017
Home / Delhi / Mumbai / निजी अस्पताल भी सरकारी अस्पतालों के साथ विरोध में शामिल

निजी अस्पताल भी सरकारी अस्पतालों के साथ विरोध में शामिल

दिल्ली के निजी अस्पताल शुक्रवार को सुरक्षित काम के माहौल की मांग कर रहे सरकारी डॉक्टरों द्वारा जारी हड़ताल में शामिल हो गए हैं।

राष्ट्रव्यापी हड़ताल तब शुरू हुई जब एक मृतक रोगी के रिश्तेदारों ने मुंबई के ‘सायन अस्पताल’ में एक निवासी डॉक्टर को बहुत मारा। महाराष्ट्र के लगभग 4,000 निवासी डॉक्टर इस घटना के बाद बड़े पैमाने पर छुट्टी पर चले गए थे।

दिल्ली में ‘अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स)’ के डॉक्टर शुक्रवार को तीसरे दिन हेलमेट पहन कर काम पर आये, जबकि गुरुवार को शहर में 10000 डॉक्टरों ने छुट्टी लेकर मुम्बई के डॉक्टरों का समर्थन किया।

शुक्रवार को ‘सर गंगा राम’ सहित प्रमुख निजी अस्पतालों ने आंदोलन के प्रति एकजुटता व्यक्त करी और आंशिक रूप से अपने कार्यों को निलंबित किया।

“हमारे अस्पताल के डॉक्टर आईएमए और डीएमए के डॉक्टरों की सुरक्षा की की मांग को लेकर उनके साथ हैं। हमारे अस्पताल के जनरल और निजी ओपीडी शुक्रवार को काम नहीं करेंगे, हालांकि इन-रोगी और आपातकालीन सेवाएं सामान्य रूप से चलती रहेंगी, ‘सर-गंगा राम’ अस्पताल में प्रबंधन बोर्ड के अध्यक्ष ‘डा डी.एस.राणा’ ने कहा।”

‘फोर्टिस’ और ‘अपोलो’ अस्पतालों ने भी डॉक्टरों की हड़ताल को अपना समर्थन दिया। फोर्टिस अस्पताल प्रबंधन ने कहा “हमारे डॉक्टर लगातार जीवन को बचाने और समृद्ध करने का प्रयास करते हैं। हम डॉक्टरों और अस्पताल के कर्मचारियों के खिलाफ हिंसा के कृत्य की निंदा करते हैं। सुरक्षा और सुरक्षित काम का माहौल देखभाल करने वालों के लिए बुनियादी आवश्यकता है ताकि वे रोगियों को सर्वोत्तम संभव चिकित्सा प्रदान कर सकें। हम ‘फोर्टिस हेल्थकेयर’ में हमारे मरीजों के लिए प्रतिबद्ध हैं और हमारी चिकित्सा सेवाएं सही तरीके से चल रही हैं। ”

गुरुवार को, दिल्ली और केंद्रीय सरकारी अस्पतालों के करीब 40,000 शहर डॉक्टर बड़े पैमाने पर छुट्टी पर थे जिसके कारण सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक ओपीडी सेवाएं स्थगित रहीं।

TOPPOPULARRECENT