Wednesday , August 23 2017
Home / International / नेपाल-चीन एग्रीमेंट पर भारत को निराश होने की जरूरत नहीं

नेपाल-चीन एग्रीमेंट पर भारत को निराश होने की जरूरत नहीं

पड़ोसी देशों के साथ  ख़ुशगवार संबंध रखना हमारा पहला उद्देश्य, शासक सीपीएन यूएमएल नेता का बयान

काठमांडू: नेपाल की सत्ताधारी पार्टी सीपीएन यूएनएल के  सीनीयर नेता ने कहा कि चीन के साथ नेपाल के विस्तारवादी संबंधों से भारत को निराश या चिंतित होने की जरूरत नहीं है। नेपाल किसी के साथ भी दुश्मनी या नाराजगी मोल नहीं ले सकता। पार्टी सेंटर कमेटी सदस्य प्रदीप गावले ने कहा कि हम दोनों देशों (भारत और चीन) के साथ  ख़ुशगवार संबंध बनाए रखना चाहते हैं। दोनों देशों के साथ समानता के आधार पर यह संबंध बनाए रखेंगे। इस पर किसी भी देश को निराश या चिंतित होने की जरूरत नहीं है। बतौर स्वतंत्र और स्वतंत्र देश नेपाल को यह फैसला करने का अधिकार है कि उसे पड़ोसी देशों के साथ किस तरह के संबंधों रखना चाहिए। हम इस देश के साथ अच्छे संबंध रखना चाहते हैं। यह हमारा अधिकार है और हम किसी के साथ भी दुश्मनी मोल नहीं लेंगे।

सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ नेपाल (मार्क्सवादी लैंनसट) ने चीन के साथ नेपाल के करार पर हस्ताक्षर का स्वागत किया है। प्रधानमंत्री नेपाल के पी शर्मा ओली के जारीया यात्रा के दौरान चीन के साथ इस समझौते हुए हैं। इस सहयोग के तहत दोनों देशों के बीच सामाजिक और आर्थिक विकास को लंबे समय तक विस्तार करने में मदद मिलेगी।

नेपाल के विकास के लिए ऐसे समझौते आवश्यक हैं। इन समझौतों से नेपाल के व्यापार को एक नया आयाम दिया जाएगा और सत्तारूढ़ पार्टी का कहना है कि इन समझौतों को तेजी से  अमल लाया जाना चाहिए। दोनों देशों के बीच आपसी समझौते हुए हैं जिनमें व्यापार को बढ़ावा देना सीमा पार से समन्वय को मजबूत बनाना, इंफ्रास्ट्रक्चर, विकास, निवेश, पुनर्निर्माण, ऊर्जा, पर्यटन और व्यापार के विकास से नेपाल की आर्थिक और सामाजिक विकास में सक्रिय दीर्घकालिक बदलाव आएगा।

प्रधानमंत्री नेपाल 20 मार्च से चीन के दौरे पर हैं और दोनों देशों ने रेल संपर्क और पारगमन संधि सहित 10 समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं। प्रधानमंत्री नेपाल ने अपने चीनी समकक्ष ली घडि़याल के साथ बातचीत के दौरान इन समझौतों को क़तईयत दी। आपसी सीमा समझौते से भारत नेपाल निर्भर समाप्त हो जाएगा और चीन के साथ व्यापार को बढ़ावा मिलेगा। अब तक कोलकाता बंदरगाह से नेपाल की वस्तुओं के आयात निर्यात प्रक्रिया में आती थी। अब नेपाल अपनी वस्तुओं को तिब्बत द्वारा हिमालयी मार्ग प्रमुख सकता है। इसी दौरान संघीय समाजवादी मंच नेपाल के राष्ट्रपति उपेंद्र यादव ने कहा कि नेपाल में नए संविधान बनाने पर चीन की ओर से स्वागत करने का कोई मतलब नहीं है|

TOPPOPULARRECENT