Saturday , October 21 2017
Home / Khaas Khabar / नेहरू की वजह से ही कश्मीर का बड़ा हिस्सा पाकिस्तान गया: अमित शाह

नेहरू की वजह से ही कश्मीर का बड़ा हिस्सा पाकिस्तान गया: अमित शाह

बीजेपी के कौमी सदर अमित शाह ने कहा कि अगर स वक्त के वज़ीर ए आज़म पंडित जवाहरलाल नेहरू की जगह सरदार वल्लभभाई पटेल ने कश्मीर मामला निबटाया होता तो पाकिस्तान के पास न कश्मीर का एक हिस्सा होता और न ही आर्टिकल 370 का वजूद होता। शाह ने कहा कि आ

बीजेपी के कौमी सदर अमित शाह ने कहा कि अगर स वक्त के वज़ीर ए आज़म पंडित जवाहरलाल नेहरू की जगह सरदार वल्लभभाई पटेल ने कश्मीर मामला निबटाया होता तो पाकिस्तान के पास न कश्मीर का एक हिस्सा होता और न ही आर्टिकल 370 का वजूद होता। शाह ने कहा कि आज कश्मीर का एक बड़ा हिस्सा पाकिस्तान के तहत है।

मुझे आपको यह बताने में कोई हिचक नहीं है कि अगर कश्मीर मुद्दा भी जवाहरलाल नेहरू की जगह सरदार पटेल को दिया गया होता तो कश्मीर का हिस्सा पाकिस्तान को नहीं गया होता, आर्टिकल 370 नहीं होता और वह हिंदुस्तान के किसी दूसरे हिस्से की तरह होता। शाह ने यह बात बीदर जिले के एक गांव गोर्ता में सरदार वल्लभभाई पटेल के मुज़स्समा और शहीद यादगार की संग ए बुनियाद के बाद की। यह यादगार 1948 में हैदराबाद के निजाम की ज़ाती फौज के हाथों मारे गए तकरीबन 200 गांव वाले और निजामशाही से हैदराबाद-कर्नाटक की आज़ादी की याद में बनाया जा रहा है।

जिम्नी इंतेखाबात में बीजेपी के खराब मुज़ाहिरा पर अमित शाह ने कहा कि कारकुन हताश ना हों। उन्होंने कहा कि वे आइंदा चार विधानसभा इंतेखाबात में ज़्यादा अक्सरियत से जीतेंगे और इसके लिए वे कांग्रेस आज़ाद हिंदुस्तान के एजेंडे पर आगे पर आगे बढ़ें। शाह ने कहा कि कुछ इलेक्शन के नतीजे आए हैं। अपोजिशन हावी है। उन्हें लगता है कि कुछ बहुत अच्छी चीज हुई है क्योंकि कुछ जगहों पर भाजपा को हरा दिया गया है, लेकिन वे नहीं देख सकते हैं कि हमने असम में अपना खाता खोला है, वे नहीं देख सकते कि हम बंगाल में जीते हैं। लोकसभा इंतेखाबात में शानदार जीत के महज चार माह बाद भाजपा उत्तर प्रदेश, राजस्थान और गुजरात के अपने गढ़ों में हुए जिम्नी इंतेखाबात में बुरी तरह से हार गई। उसे 23 विधानसभा सीटों में से 13 खोनी पड़ीं। इन जिम्नी इंतेखाबात को वज़ीर ए आज़म नरेंद्र मोदी की मक्बूलियत के इम्तेहान के तौर पर देखा जा रहा था।

TOPPOPULARRECENT