Saturday , August 19 2017
Home / Khaas Khabar / नोटबंदी: कुल जमा नोटों का एक तिहाई भी वितरण नहीं कर सकी मोदी सरकार, 2000 की तुलना में 500 के नोट काफी कम

नोटबंदी: कुल जमा नोटों का एक तिहाई भी वितरण नहीं कर सकी मोदी सरकार, 2000 की तुलना में 500 के नोट काफी कम

नई दिल्ली: नोटबंदी के बाद सरकार के पास 13 लाख करोड़ रुपये से अधिक के पुराने नोट आ चुके हैं। सीएनबीसी-आवाज़ को मिली एक्सक्लूसिव जानकारी के अनुसार उनमें से केवल 33 प्रतिशत राशि ही सरकार ने लोगों के बीच विभाजित किये हैं। बैंक और डाकघरों में कुल 4000 करोड़ रुपये के नोट बदले गए हैं। यह आंकड़ा 6 दिसंबर की शाम तक के हैं।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

सूत्रों के अनुसार नोटबंदी के बाद बैंक और डाकघरों में कुल 12.76 लाख करोड़ रुपये जमा हुए हैं। जमा के अलावा बैंक और डाकघरों में कुल 40.48 लाख करोड़ रुपये बदले गए हैं। नोटबंदी के बाद 13.17 लाख करोड़ रुपये मूल्य के 500 और 1000 के पुराने नोट आ चुके हैं। नोटबंदी के बाद अब तक सरकार ने जमा राशि का केवल 32.72 प्रतिशत राशि लोगों के बीच वितरण किये हैं। नोटबंदी के बाद सरकार ने कुल 4.31 लाख करोड़ रुपये लोगों के बीच वितरित किए हैं।

उधर सूत्रों ने यह भी बताया कि रिजर्व बैंक और करंसी चेस्ट मिलाकर कुल 117509 करोड़ रुपये हैं, जबकि रिजर्व बैंक के पास 43165 करोड़ रुपये की लगभग राशि है। रिजर्व बैंक के पास 2000 के नोट के मुकाबले 500 के नोट केवल 9 प्रतिशत हैं। रिजर्व बैंक के पास 3250 करोड़ रुपये की लागत के 500 के नोट हैं, जबकि 36213 करोड़ रुपये मूल्य के 2000 के नोट हैं।

करेंसी चेस्ट में वर्तमान में 74344 करोड़ रुपये हैं। करेंसी चेस्ट में 2000 के नोट के मुकाबले 500 के नोट केवल 15 प्रतिशत हैं। करेंसी चेस्ट में 54470 करोड़ रुपये के 2000 नोट जबकि 8345 करोड़ रुपये के 500 के नोट हैं।

टैक्स एक्सपर्ट टी पी ओस्तवाल के अनुसार सरकार दूसरी बार सर्जिकल स्ट्राइक करके बैंकों में जमा हुए पैसे की जांच शुरू कर सकती है। उनका यह भी कहना है कि आयकर और बेनामी संपत्ति कानून के तहत कार्रवाई की संभावना है।

TOPPOPULARRECENT