Wednesday , August 23 2017
Home / Bihar News / नोटबंदी ने बिहार में ली फिर एक बुजुर्ग की जान

नोटबंदी ने बिहार में ली फिर एक बुजुर्ग की जान

औरंगाबाद: बिहार के एक रिटायर फौजी ने रूपये बदलवाने के चक्कर में अपनी जान गवां बैठा. हुआ यूं कि बुजुर्ग फौजी औरंगाबाद में एसबीआई की दाउदनगर शाखा से पैसे निकालने पहुंचे थे. कतार में खड़े रहने से अचानक उनकी तबियत बिगड़ गई और लड़खड़ा कर जमीन पर गिर पड़े. लोग जब तक उन्हें अस्पताल पहुंचाते, तब तक उनकी मौत हो गई.

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

हिंदुस्तान के अनुसार, मृतक 65 वर्षीय सुरेंद्र कुमार शर्मा दाउद नगर थाना क्षेत्र के अराई गांव के रहने वाले थे, सुरेंद्र के घर कुछ रिश्तेदार आए थे जिनकी स्वागत तथा विदाई के लिए उन्हें रूपये की सख्त जरुरत थी. वह दस हजार रुपए निकालने बैंक पहुंचे. वहां वे और एक्सचेंज फॉर्म भर कर कतार में खड़े हो गए. बैंक में सुबह से ही लंबी कतार लगी थी और धक्का-मुक्की भी हो रही थी. चश्मदीदों ने बताया कि लाईन में कुछ देर खड़े रहने के बाद उन्हें चक्कर आ गया और वह लड़खड़ाकर गिर पड़े. शव के पास पड़े आधार कार्ड, चेकबुक और अन्य दस्तावेजों से उनकी पहचान हुई. उन्हें देखने वाले डॉक्टर विनोद ने कहा कि उनके पास बुजुर्ग को मृत अवस्था में लाया गया था उनकी मौत हार्ट अटैक से होने की संभावना लग रही है. लेकिन इसकी पुष्टि पोष्टमार्टम के बाद ही की जाएगी. एसपी डॉ सत्यप्रकाश ने कहा कि उक्त रिटायर फौजी बैंक में पैसा निकालने पहुंचे थे और लाईन में खड़े रहने से उनकी तबीयत बिगड़ गई और चक्कर खा कर वह गिर पड़े. एसपी ने कहा कि इस घटना की जांच का आदेश दाउदनगर थानाध्यक्ष को दिया गया है. बता दें कि लाईन में खड़े रहने से बुजुर्ग की मौत होने पर बैंक में हड़कंप मच गया. जबकि इससे पहले भी कई जगह ऐसी घटनाएँ हो चुकी है. लेकिन लोगों को असुविधा न हो इसके लिए न तो बैंक और न ही सरकार कोई कदम उठा रही है. लाईन में खड़े लोगों ने सरकार को कोंसते हुए कहा.

TOPPOPULARRECENT