Sunday , August 20 2017
Home / Delhi / Mumbai / नोट परिवर्तन के बाद उपभोक्ता उंगलियों पर निशान लगाने सरकार का फैसला

नोट परिवर्तन के बाद उपभोक्ता उंगलियों पर निशान लगाने सरकार का फैसला

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने जन धन खातों में संदिग्ध जमा पर कड़ी नजर रखने की घोषणा की है। इसके अलावा रद्द किये गये नोटों परिवर्तन के लिए बैंकों पर लंबी कतारों और इस स्थिति में हम जनता के तीव्र भावनाओं पर काबू पाने के लिए नोट परिवर्तन संडैक्टस (रैकों) की गतिविधियों को रोकने के उद्देश्य से निष्क्रिय नोटों को बदल करवाने वालों की उंगलियों पर स्याही लगाने का फैसला किया गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से कल रात मांगी गई समीक्षा बैठक के बाद सरकार ने कैबिनेट सचिव के नेतृत्व में एक उच्चस्तरीय समूह का गठन किया है जो नोटों की कमी के कारण व्यापार में होने वाले व्यवधान के मद्देनजर आवश्यक वस्तुओं की अध्यक्षता की निगरानी किया जाएगा। जलजनित क्षेत्रों में नकली नोटों के चलन पर कड़ी नजर रखने के लिए एक टास्क फोर्स का भी गठन किया गया है।

इसके अलावा बैंक खातों में फिर काला धन जमा करने के प्रयासों पर भी नजर रखी जाएगी। सचिव आर्थिक मामलों शशि कांत दास ने संवाददाताओं से कहा, ” सरकार के संज्ञान में यह बात आई है कि कई स्थानों पर कुछ विशिष्ट व्यक्तिया बार बार वापस आ रहे हैं और नोट बदल रहे हैं। दास ने कहा, ” हमें यह सूचना भी मिली हैं कि कुछ बदमाश काले धन को सफेद बनाने के लिये अनजान व भोले लोगों के समूह बना रहे हैं और उन्हें एक शाखा से दूसरी शाखा भेज रहे हैं ताकि हर जगह 4,500 रुपये परिवर्तित किए जा सके ”। उन्होंने कहा, ” इस स्थिति का परिणाम यह रहा है कि नकदी निकालने की सुविधा मात्र कुछ लोगों तक सीमित रही है।

इस प्रकार के दुरुपयोग को रोकने के लिए बैंकों और एक्सचेंजस पैसे कमाने वालों की उंगलियों पर स्याही के निशान लगाएंगे। ‘ इस कदम से मुद्रा परिवर्तन में शामिल संडैक्टस (रेकिटस) और इस प्रकार के लोग बार बार बैंक पहुंचने से बचना होगा। दास ने कहा कि जन-धन खातों पर भी कड़ी नजर रखी जा रही है जिन्हें कुछ मामलों में काला धन रखपने के लिए बेजा रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है।

दास ने कहा, ” जन धन खाते में वैध जमा करने वालों को कोई परेशानी नहीं होगी। मैं जन धन खाताधारकों से अपील करना चाहता हूं कि वे अपने खातों में दूसरों को अवैध धन जुटाने की अनुमति न दें। ” सरकार को यह सूचना प्राप्त हुई हैं कि अक्सर जनधन खातों में जहां अधिकतम 50,000 रुपये जमा करने की अनुमति है लेकिन कई लोग इसका फायदा उठाते हुए 49,000 रुपये प्रस्तुत कर रहे हैं। उपभोक्ता उंगलियों पर स्याही लगाने के बारे में बैंकों द्वारा प्रदर्शन पत्र जारी किए जाएंगे।

TOPPOPULARRECENT