Saturday , August 19 2017
Home / Delhi / Mumbai / नोट बंदी के पीड़ितों का विरोध और आत्महत्या

नोट बंदी के पीड़ितों का विरोध और आत्महत्या

दीमापुर: बिहार के एक व्यापारी जो चार्टर्ड विमान में अकेले यात्रा कर रहें थे नागालैंड के एक एयरपोर्ट‌ पर आज 5.5 करोड़ रुपये प्रतिबंधित मुद्रा लाने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि बिहार के जिला मुंगेर से जुड़े व्यापारी ए सिंह जेट विमान लैंड करते ही उन्हें हिरासत में ले लिया गया और घरेलू विमान से प्रतिबंधित नोट जब्त कर लिया गया।

सीआरपीएफ और अन्य सुरक्षा एजेंसियों के अधिकारी भारी रखम‌ के बारे में पूछताछ कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश में एक 65 वर्षीय व्यक्ति बैंक के बाहर कतार‌ में भगदड़ से मरा गया। जबकि बैंक से पैसे निकालने के लिए अपनी बारी के इंतेजार में था। गांव का रहने वाला रामनाथ कशवार कल एसबीआई शाखा के बाहर भीड़ की भगदड़ में कुचला गया वह‌ अस्पताल में अपनी गर्भवती बहू का बिल चुकाने के लिए बैंक से पैसे निकालने के लिये गया हुआ था।

मुजफ्फरनगर में नोटबंदी के बाद परेशानी से पीड़ित किसानों ने भारतीय किसान यूनियन के नेतृत्व में एक बैंक के बाहर विरोध किया और अधिकारियों का घेराव कर दिया। यह घटना जिले मुजफ्फरनगर के गांव कोड़ा में हुई। रक़म हासिल करने में विफलता के बाद किसानों ने पंजाब नेशनल बैंक की शाखा के बाहर धरना दिया।

मीरान पूर गांव में इसी तरह का विरोध करने की खबरें हैं। * केरल में एक व्यक्ति ने इस आशंका से आत्महत्या कर ली कि नोटबंद‌ करने के बाद सहकारी बैंक में जमा इस राशि को फिर से वापस नहीं ला सकते। जबकि दूसरे व्यक्ति ने बैंक की लंबी लाइन में ठ‌हरे ठ‌हरे दम तोड़ दिया। पुलिस ने बताया कि जिले कोटाईम के गांव चैरोलियाल का रहने वाला 73 वर्षीय ओमनी किशन ने कल अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली जिसने एक स्थानीय सहकारी बैंक में 5 लाख रुपये जमा करवाए थे लेकिन नोटों की समाप्ति के बाद अपनी वापसी के बारे में डर गए।

एक अन्य घटना में 68 वर्षीय चंद्र क शीखरन ने बैंक की कतार‌ में ठ‌हरे ठ‌हरे दम तोड़ दिया। बीएसएनएल का यह छात्रवृत्ति सफ़ल कर्मचारी स्टेट बैंक शाखा की कतार‌ में ठहराया गया था कि बेहोश होकर‌ गिर गया। अस्पताल ले जाने पर मृत घोषित किया गया। इसी बैंक के परिसर में 11 नवंबर को भी एक व्यक्ति की मौत हो गई थी।

TOPPOPULARRECENT