Saturday , October 21 2017
Home / Assam / West Bengal / नोट बदलवाने वाले की पहचान के लिए स्याही का इस्तेमाल ‘काला तंत्र’ की शुरुआत है- ममता बनर्जी

नोट बदलवाने वाले की पहचान के लिए स्याही का इस्तेमाल ‘काला तंत्र’ की शुरुआत है- ममता बनर्जी

कोलकाता। एटीएम और बैंकों में लग रही लंबी कतारों को छोटा करने के लिए सरकार कई तरह के कदम उठा रही है। इसी के तहत मंगलवार को फैसला किया गया कि नोट बदलवाने वाले व्यक्ति की पहचान के लिए स्याही का इस्तेमाल किया जाएगा। अब इस फैसले पर भी राजनीति होने लगी है। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस फैसले की कड़ी आलोचना की है।

ममता बनर्जी ने कहा कि ऐसा करके केंद्र सरकार आम लोगों के प्रति अविश्वास जता रही है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘स्याही का इस्तेमाल कर ‘काला तंत्र शुरू करने की यह जल्दबाजी’ दिखाती है कि सरकार को आम आदमी पर भरोसा नहीं रहा।’
तृणमूल सुप्रीमो ने कहा, 19 नवंबर को उपचुनाव हैं। नोट लेने वालों की उंगुली पर स्याही लगाने के निर्णय पर चुनाव आयोग क्या कहेगा? क्योंकि यही लोग वोट डालने के लिए भी जाएंगे।

डीईए के सचिव सचिव शक्तिकांत दास ने मंगलवार को कहा है कि जिस तरह से लोग बार-बार नोट बदलवाने के लिए बैंक के बाहर लाइन लगाकर खड़े हो रहे हैं अब से कैश लेने के बाद उनकी उंगली पर स्याही से निशान लगाया जाएगा।

TOPPOPULARRECENT