Wednesday , August 23 2017
Home / Delhi News / नोट बैन: बैकों में खड़े दो और लोगों की मौत, पुरे देश में अफ़रातफ़री का माहौल

नोट बैन: बैकों में खड़े दो और लोगों की मौत, पुरे देश में अफ़रातफ़री का माहौल

नई दिल्ली। बड़ी राशि के पुराने नोटों को अमान्य घोषित किये जाने के बाद पुराने नोटों को बदलवाने के लिए रविवार को बैंकों के बाहर खड़े दो बुजुर्गों की मौत हो गयी। वहीं देशभर में अव्यवस्था का माहौल है और बैंकों एवं एटीएम के बाहर लोगों की लंबी कतारें देखने को मिल रही हैं। साथ ही कई स्थानों से लोगों के बीच छिटपुट झड़प की सूचनाएं भी प्राप्त हो रही हैं।

पुलिस ने आज बताया कि मध्य प्रदेश के सागर जिले में एक बैंक के बाहर अमान्य घोषित किये जा चुके नोटों को बदलवाने के लिए कतार में खड़े 69 वर्ष के एक व्यक्ति की दिल का दौरा पड़ने के कारण मौत हो गयी।
पुलिस इंस्पेक्टर वी एस चौहान ने बताया, हम लोगों को जानकारी मिली है कि अमान्य नोटों को बदलवाने के लिए एक बैंक के बाहर कतार में खड़े एक बुजुर्ग व्यक्ति :विनय कुमार पाण्डेय: को दिल का दौरा पड़ा। उन्हें एक निजी अस्पताल में ले जाया गया जहां उपचार के दौरान उनकी मौत हो गयी।

‘इंडिया टीवी खबर डॉट कॉम’ के अनुसार, वहीं गुजरात के सुरेंद्रनगर जिले के लिमदी शहर में भी दिल का दौरा पड़ने की वजह से 69 वर्षीय व्यक्ति की मौत की सूचना मिली है। मनसुख दर्जी लिमदी में बैंक ऑफ इंडिया की एक शाखा के बाहर कतार में खड़े थे और दिल का दौरा पड़ने की वजह से अचानक गिर पड़े।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आठ नवंबर को पांच सौ और एक हजार रूपये के पुराने नोटों का प्रचलन बंद करने की घोषणा की थी। इसके बाद से ही देश भर में बैंकों और एटीएम के बाहर लंबी कतारें देखी जा रही हैं, जिसका क्रम आज भी जारी रहा। शटर खुलने के बाद बैकों और एटीएम में जल्दी ही नकदी खत्म होने पर लोगों का धैर्य जवाब देने लगा जिससे गरमागरम बहसें और धक्का मुक्की का नजारा आम रहा। चूंकि गुरूनानक जयन्ती के मौके पर कल बैंकें बंद रहेंगी, लोग अपनी दैनिक जरूरतों को पूरा करने के लिए नये नोट निकालने तथा वर्तमान नोटों को बदलने के लिए उमड़ पड़े।

पश्चिमी उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में गुस्साए लोगों की बैंक कर्मचारियांे से झड़प हो गई और उन्होंने सुजरू गांव में शाखा पर पथराव किया जिसमें एक महिला सहित तीन लोग घायल हो गये। पुलिस ने कहा कि शाखा में नोट खत्म होने पर बड़ी संख्या में वहां एकत्रित हुए लोगों की बैंक कर्मचारियों से झड़प हो गई। इस घटना के संबंध में सौ से अधिक लोगों पर मामला दर्ज हुआ है।

दिल्ली में रविवार को भी पुराने नोटों को बदलने और एटीएम से पैसा निकालने में लोगों को बड़ी मुश्किलों का सामना करना पड़ा और जनता के बीच निराशा और नाराजगी है। बैंकों और एटीएम के बाहर लंबी कतारों में लोग खड़े रहे। एटीएम में पैसा नहीं होने से लोग नाराज दिखे और लोगों के बीच आपस में भी कहासुनी देखी गयी।
सीलमपुर में कल एक मॉल में लोगों द्वारा लूटपाट की अफवाहों के बाद भगदड़ की आशंकाओं के बीच बैंक शाखाओं के बाहर सुरक्षा बंदोबस्त बढ़ाये गये थे।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी के अनुसार, चूंकि आज रविवार है, हमें बैंकों और एटीएम के बाहर भारी भीड़ की उम्मीद थी। हमने पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था की ताकि कोई अप्रिय घटना नहीं घटे। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए अद्र्धसैनिक बल और दिल्ली पुलिस के करीब 3400 जवानों को और 200 त्वरित प्रतिक्रिया दलों को एटीएम और बैंकों के बाहर तैनात किया गया है।

मुंबई में भी बैकों और एटीएम के बाहर लंबी कतारें जारी रहीं और लोगों को घंटों इंतजार करना पड़ा। इस बीच, भाजपा, शिवसेना, मनसे और कांग्रेस सहित अन्य राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता मुंबई में बैंकों और एटीएम के बाहर कतारों में लगे लोगों की मदद के लिए आगे आए और उन्हें पेयजल तथा चाय इत्यादि उपलब्ध कराया।

TOPPOPULARRECENT