Tuesday , September 26 2017
Home / Delhi / Mumbai / न्यायपालिका खुद सीमा सेट करे। अरुण जेटली

न्यायपालिका खुद सीमा सेट करे। अरुण जेटली

नई दिल्ली: न्यायपालिका की गतिविधि पर एक बार फिर चिंता व्यक्त करते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने आज यह स्पष्ट किया कि न्यायपालिका को खुद अपनी एक सीमा निर्धारित करनी चाहिए और ऐसे फैसले नहीं करनी चाहिए जो कार्यपालिका के क्षेत्र कार में आते हैं। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि गतिविधि में संयम को शामिल करने की जरूरत है और न्यायपालिका की स्वतंत्रता के नाम पर ढांचागत कीदोसरे पहलुओं पर कोई समझौता नहीं किया जा सकता। इंडियन वोमेंस प्रेस कोर में पत्रकारों के सवालों का जवाब देते हुए अरुण जेटली ने इस विचार व्यक्त किया।

उन्होंने कहा कि न्यायिक समीक्षा न्यायपालिका का अधिकार है लेकिन हर संस्था को खुद अपनी सीमा (लक्ष्मण रेखा) खींचनी चाहिए। इस सीमा बहुत महत्वपूर्ण हैं। उन्होंने यह स्पष्ट किया कि कार्यकारिणी के निर्णय कार्यकारिणी को ही करने होते हैं न्यायपालिका को नहीं। अरुण जेटली ने कहा कि किसी भी प्रक्रिया के विभिन्न रास्ते होते हैं और जवाबदेही की जो सीमा होती है वह कार्यकारिणी की ओर से निर्णय के बाद आती है।

उन्होंने कहा कि जनता के पास कार्यकारिणी की ओर से किए जाने वाले फैसलों में बदलाव की मांग की संभावना मौजूद है या वे सरकारों को भी सत्ता से बेदखल कर सकते हैं। जेटली ने कहा कि अगर कार्यकारिणी की ओर से किए जाने वाले निर्णय गैर संवैधानिक होते हैं तो अदालतें उन फैसलों को निरस्त कर सकती हैं लेकिन यह सब कुछ संभावनाओं इस समय संभव नहीं रहते जब खुद अदालतों की ओर से कार्यकारिणी के फैसले किए जाएं।

उन्होंने कहा कि अदालतें कार्यपालिका की विकल्प नहीं हो सकतें न ही यह कह सकता है कि वह कार्यपालिका और कार्यकारिणी के निर्णय कर सकती हैं। अगर ऐसा हुआ तो जो अन्य तीन संभावनाएं हैं वे समाप्त हो जाते हैं। इस मौके कार्यकारिणी की ओर से निर्णय किए जाने के मामले में उपलब्ध रहते हैं। अरुण जेटली से उनके पूर्व ज्ञापन में सवाल किया गया था जिनमें उन्होंने कहा था कि न्यायपालिका की ओर से विधायिका और कार्यपालिका के अधिकारों में हस्तक्षेप बेजा जा रही है।

जेटली ने देश के कई राज्यों के लोगों की ओर से राष्ट्रीय पात्रता एंट्रेंस टेस्ट NEET पर किए जा रहे विरोध का भी हवाला दिया और कहा कि देश भर में कैसे परीक्षा का आयोजन प्रक्रिया में लाया जाना चाहिए इसका फैसला करना व्यवहारिक रूप कार्यकारिणी का काम है और यह नीति के दायरे में आता है। उन्होंने कहा कि इस समस्या में कुछ राज्यों के बोर्डों असमान हैं और उनकी भाषा में समान नहीं है। ऐसी स्थिति में क्या इन राज्यों से कहा जा सकता है कि वह एक ही तरह के तरीके में और एक ही तरह की भाषा में परीक्षा का आयोजन सक्रिय।

उन्होंने कहा कि उनके विचार में यह समस्या कार्यकारिणी के दायरे में आता है। अब इस पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला भी मौजूद है और हमें यह देखना होगा कि हम इस विशेष समस्या से कैसे निपटें। वित्त मंत्री ने साथ ही कहा कि अदालीह की स्वतंत्रता भी बहुत महत्व है और न्यायपालिका इस बात को स्पष्ट करने में सही भी है। उन्होंने कहा कि जिस तरह न्यायपालिका की स्वतंत्रता मूल संरचना का हिस्सा है इसी तरह नीति बनाने में विधायिका के महत्व भी बुनियादी ढांचा ही का हिस्सा है|

TOPPOPULARRECENT