Saturday , October 21 2017
Home / India / पटना का जलसा मंसूख़ करने बी जे पी से नहीं कहा गया

पटना का जलसा मंसूख़ करने बी जे पी से नहीं कहा गया

बिहार पुलिस ने बी जे पी के सदर राजनाथ सिंह के दावे को बेबुनियाद क़रार दिया कि पुलिस ओहदेदारों ने पार्टी क़ाइदीन से 27 अक्टूबर की हुंकार रैली मंसूख़ करने की ख़ाहिश की थी जब कि गांधी मैदान में और इस के अतराफ़ सिलसिला वार बम धमाके हुए थे।

बिहार पुलिस ने बी जे पी के सदर राजनाथ सिंह के दावे को बेबुनियाद क़रार दिया कि पुलिस ओहदेदारों ने पार्टी क़ाइदीन से 27 अक्टूबर की हुंकार रैली मंसूख़ करने की ख़ाहिश की थी जब कि गांधी मैदान में और इस के अतराफ़ सिलसिला वार बम धमाके हुए थे।

डी जी पी रवींद्र कुमार ने एक प्रेस कान्फ्रेंस में कहा कि हम इस बात की तरदीद करते हैं कि पुलिस ओहदेदारों ने किसी भी बी जे पी क़ाइद से रब्त पैदा करके दरख़ास्त की थी कि गांधी मैदान का जल्सा-ए-आम जो 27 अक्टूबर को मुक़र्रर था, सिलसिला वार बम धमाकों की वजह से मंसूख़ कर दिया जाये।

उन्होंने दिल्ली के एक ख़बररसां टी वी चैनल से कहा कि बिहार पुलिस के ओहदेदारों ने उन से ये दरख़ास्त की थी कि पार्टी के विज़ारते-उज़मा के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी का 27 अक्टूबर को जल्सा-ए-आम से ख़िताब मंसूख़ कर दिया जाये, लेकिन उन्होंने फैसला किया कि प्रोग्राम के मुताबिक़ जल्सा-ए-आम मुनाक़िद किया जाएगा।

डी जी पी ने कहा कि हमारे ओहदेदारों से हम ने हक़ायक़ मालूम करलिए हैं जिन की बुनियाद पर इस दावे की तरदीद की जा रही है। उन्हों ने राजनाथ सिंह के दावा की इन का नाम लिए बगैर तरदीद करने के मक़सद से ही ये प्रेस कान्फ्रेंस तल्ब की थी।

उन्होंने पटना सिलसिला वार बम धमाकों की तहकीकात के बारे में किसी भी सवाल का जवाब देने से इनकार कर दिया। बरसर-ए-इक़तिदार जनतादल (यू), बी जे पी के साथ ज़बानी तकरार में मसरूफ़ है जिस का मौज़ू सिलसिला वार बम धमाके और जल्सा-ए-आम के लिए हिफ़ाज़ती इंतेज़ामात हैं।

27 अक्टूबर के बम धमाकों से गांधी मैदान दहल कर रह गया था और इस में 7 अफ़राद हलाक और दिगर 80 ज़ख़मी हुए थे।

TOPPOPULARRECENT