Wednesday , August 23 2017
Home / Bihar/Jharkhand / पटना : फर्जी साॅफ्टवेयर से रेलवे तत्काल टिकट की बुकिंग

पटना : फर्जी साॅफ्टवेयर से रेलवे तत्काल टिकट की बुकिंग

पटना: रेलवे तत्काल टिकट का तोड़ दलालों व ट्रेवल एजेंसियों ने निकाल लिया है.ये रेलवे और यात्रियों को जम कर चूना भी लगा रहे हैं. कुछ ट्रेवल एजेंसी व दलालों से रेलवे पुलिस ने जो सॉफ्टवेयर बरामद किये हैं, वह अलग है. हालांकि, वह भी रेलवे के सॉफ्टवेयर की तरह काम करता है. लेकिन, इस सॉफ्टवेयर में पहले से भरा हुआ फॉर्म रहता है. लॉगइन करते ही सिर्फ एक क्लिक पर इस डमी फॉर्म की सारी जानकारी आइआरसीटीसी के फॉर्म पर ट्रांसफर हो जाती है. नतीजा रेलवे की तुलना में दलालों व ट्रेवल एजेंसियों के सॉफ्टवेयर से तुरंत कन्फर्म टिकट की बुकिंग हो जाती है.

हाल ही में रेलवे पुलिस ने कई ट्रेवल एजेंसियों के यहां छापेमारी कर कन्फर्म टिकट पकड़े थे. छापेमारी के दौरान पुलिस ने बड़ा खुलासा किया था. ब्लैक टीएस नाम के साॅफ्टवेयर से टिकट बुकिंग की जा रही थी. संबंधित ट्रेवल एजेंसी के कर्मचारी को गिरफ्तार भी किया गया था, लेकिन मौके से संचालक फरार हो गया था. उसके पास से बरामद सभी दस्तावेज, लैपटाॅप, साॅफ्टवेयर, सीडी, पैन कार्ड, एकाउंट्स नंबर आदि रेलवे पुलिस ने जब्त कर लिये थे. बड़ी बात तो यह है कि पटना में अब भी टीएस सॉफ्टवेयर का तत्काल टिकट बुकिंग के लिए इस्तेमाल हो रहा है.

संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस में तीन, राजधानी में दो, पटना पुणे में दो, राजेंद्र नगर हावड़ा में पांच, राजेंद्र नगर दुर्ग में चार तत्काल टिकट ही कटे. यह स्थिति तब है, जब सोमवार, मंगलवार और बुधवार को दशहरा व मुहर्रम की छुट्टी में लोग पटना आ चुके हैं, जाना कम होता है. यह आंकड़ा भी दिखाता है कि रेलवे काउंटर पर टिकट कम कट रहे हैं. एक ट्रेन में तत्काल का अधिकतम 100 टिकटों का कोटा होता है. लेकिन, रेलवे के खाते में 10 से 20 ही टिकट आ पाते हैं, शेष दलालों की झोली में चले जाते हैं. यानी 80 से 90 टिकट बाहर से बुक हो रहे हैं. इनमें 60 प्रतिशत कॉर्मिशयल टिकट बुकिंग हो रही है. यानी दलाल खुद कर रहे हैं. क्योंकि, बदले में उन्हें मुंह मांगी कीमत मिलती है.

“कहां से क्या दिक्कत हो रही है, जानकारी ली जायेगी. नाॅर्मल क्लास में रेलवे ने सीमित समय के लिए डिले सिस्टम डाला है. लेकिन, तत्काल के लिए इस सिस्टम को डाला गया है या नहीं इसके बारे में मैं जानकारी लूंगा. क्योंकि, डिले सिस्टम से टिकट बुक के लिए सीमित समय मिलता है.”
अरविंद कुमार रजक, सीपीआरओ, पूमरे

TOPPOPULARRECENT