Saturday , October 21 2017
Home / Bihar/Jharkhand / पटना में 15 साल पुरानी डीजल गाड़ियों पर रोक

पटना में 15 साल पुरानी डीजल गाड़ियों पर रोक

पटना : राजधानी में बढ़ते पॉलुशन को कम करने के लिए आज से 15 साल पुरानी डीजल कॉमर्शियल गाड़ियों पर रोक लगा दी गई है। डाकबंगला, करगिल चौक, गायघाट और सगुना मोड़ पर गाड़ियों की धर-पकड़ सुबह आठ बजे से ही शुरू हो गई है। अहम तौर से टेंपो, ट्रैक्टर और सिटी बसों की जांच की जा रही है। सड़क पर जाम न लगे इसलिए पहले दिन गाड़ियों को फाइन पर्ची और नोटिस देकर तुरंत छोड़ दिया जा रहा है। चालक जिला परिवहन कार्यालय जाकर फाइन जमा कर सकते हैं।
डीटीओ सुरेंद्र झा ने बताया है कि जिला परिवहन कार्यालय की टीम परमिट के साथ-साथ प्रदूषण सर्टिफिकेट भी जांच करेगी। साथ ही फिटनेस को भी जांचा जाएगा। जिला अधिकारी के निर्देश पर फरवरी के पहले हफ्ते से सरकार ने राजधानी में अधिक प्रदूषण फैलाने वाली गाड़ियों के परिचालन पर रोक लगा दी गई थी। पूरी तरह परिचालन बंद करने के लिए 15 से 22 जून के बीच गाड़ियों की धर पकड़ की जाएगी।

जांच के दौरान ग्रामीण परमिट लेकर राजधानी में चलाए जा रहे टेंपो चालकों की भी धर पकड़ की जाएगी। बिना परमिट के चलाए जा रहे वाहनों के लिए पांच हजार फाइन निर्धारित किया गया है। पटना में सिर्फ वही गाड़ियां चलेंगी, जो यहां का परमिट ले चुकी है।

पटना में बढ़ रहे वायु प्रदूषण को कम करने के लिए 2014 के जून में ही टेंपो के परमिट पर रोक लगा दी गई थी। लेकिन, उस वक्त जो भी टेंपो खरीदे गए उन्हें चार महीने बाद परमानेंट परमिट नहीं जारी किया गया। टेंपो यूनियन की मानें तो वर्तमान में हजारों की संख्या में टेंपो बिना परमिट के ही चल रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT