Thursday , May 25 2017
Home / India / पढ़ें: तीन मुस्लिम बहनों की कहानी जिसने दी पूरे गाँव को तालीम

पढ़ें: तीन मुस्लिम बहनों की कहानी जिसने दी पूरे गाँव को तालीम

कहानी वाराणसी के लोहता के सजोई गांव की है तीन मुस्लिम बहनों ने गरीबी और लाचारी को बहुत करीब से देखा है। एक ही किताब से तीनों पढाई कर आज गांव के 150 से ऊपर बच्चों को मुफ्त शिक्षा दे रही हैं। मुस्लिम होने के नाते गांव में उनके इस अभियान का विरोध भी जमकर हुआ। तीनों बहनों ने बीस हजार की आबादी वाले गांवों में साक्षरता की ऐसी अलख जगायी कि 90 प्रतिशत अनपढ़ पांच सालों में साक्षर हो गए है। इनके जज्बे की कहानी इतनी बुलंद है कि इन तीनों बहनों को फिल्म स्टार आमिर खान और टीना अंबानी ने भी सलाम किया है।

शहर से 18 किलोमीटर दूर सजोई गांव में बुनकर परिवार की तीन मुस्लिम लड़कियों ने 2010 में एक बंद पड़े मदरसे में गांव के गरीब बच्चों को पढ़ाना शुरू किया। बड़ी बहन तरनुम बताती हैं कि शुरू में काफी विरोध हुआ। उन्होंने कहा, ‘धीरे-धीरे क्लास फाइव तक के बच्चों को हिंदी, अंग्रेजी, मैथ के साथ उर्दू भी पढ़ाना शुरू किया गया पर गांव की लड़कियों को उनके माता-पिता ने पढ़ने की इजाजत नहीं दी। हमने हिम्मत नहीं हारी और सिलाई-कढ़ाई के बहाने लड़कियों को घर से बाहर निकालकर मदरसे में पढ़ाई के लिए लेकर आए। फिर धीरे- धीरे लडकियां जुड़ती चली गयीं और आज इस गांव के 200 बच्चे इस छोटे से मदरसे से पढ़कर निकल चुके हैं।

तरन्नुम बानो बताती हैं, ‘हमारे इस इलाके में लड़कियों को पढ़ाया नहीं जाता है लेकिन हमारे माता-पिता ने हमें शिक्षा दी। हम जब पढने जाते तो अपने उम्र की लड़कियों को घर में काम करते देखकर हमें अच्छा नहीं लगता था इसलिए हमने सोचा कि हम अपनी शिक्षा के साथ इन्हें भी शिक्षा दें, तबसे हम लोगों ने इन्हें पढ़ाना शुरू किया।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT