Thursday , August 24 2017
Home / Kashmir / पत्थरबाज़ी तो बंद करवाना चाहती है पर कश्मीरियों की समस्या नहीं सुनना चाहती सरकार: ज़फ़र उल इस्लाम

पत्थरबाज़ी तो बंद करवाना चाहती है पर कश्मीरियों की समस्या नहीं सुनना चाहती सरकार: ज़फ़र उल इस्लाम

SRINAGAR, AUG 29 :- A protester throws a stone towards Indian policemen during a protest in Srinagar against the recent killings in Kashmir, August 29, 2016. REUTERS-13R

कश्मीर के मसले पर सरकार के रवैय्ये से असंतुष्ट ज़फ़रउल इस्लाम ख़ान ने एक न्यूज़ मैगज़ीन से बात करते हुए कहा कि सरकार का ध्यान पत्थरबाज़ी बंद करवाने पे तो है लेकिन पैल्लेट गन और उससे घायल होने वाले नौजवानों को लेकर सरकार का रवैय्या टालमटाल वाला है. आल इंडिया मजलिस ए मुशावरात के पूर्व अध्यक्ष ज़फ़र उल इस्लाम ख़ान ने ग्रह मंत्री राजनाथ सिंह के साथ चली दो घंटे की मीटिंग के बाद ये फ़ैसला किया कि वो कश्मीर प्रतिनिधि मंडल का हिस्सा नहीं रहेंगे. ख़ान ने कहा कि जब हमने घायलों को मुआवज़ा देने की बात रखी तो प्रतिनिधि मंडल ने कहा कि अगर कोई मांगेगा तो इस पर विचार किया जाएगा.
ज़फ़र उल इस्लाम ख़ान का प्रतिनिधि मंडल से अलग हो जाना सरकार की मुश्किलों को और बढ़ा सकता है.

TOPPOPULARRECENT