Friday , August 18 2017
Home / Crime / पनसारे क़तल का असल साज़िशी गोवा धमाका में मुलव्विस

पनसारे क़तल का असल साज़िशी गोवा धमाका में मुलव्विस

कोलहापूर : कम्यूनिस्ट और माक़ूलीयत पसंद लीडर गोवीनंद पनसारे क़तल केस की तहकीकात करने वाली ख़ुसूसी टीम ने संतान संस्था के मज़ीद 2 अरकान पर शुबा ज़ाहिर किया है जो कि 2009 मिड गोवा धमाका के बाद फ़रार हो गए थे। पुलिस ज़राए ने बताया कि मिड गावा धमाका के बाद से 2 मुश्तबा अरकान रो दर्रा पाटेल और सारंग अकोलकर उर्फ़ कुलकर्णी ग़ायब हो गए थे।

इस धमाके में संस्था के 2कारकुन गोंडा पटेल और योगेश नायक ज़ख़मों से जांबर ना हो सके थे। जब वो अपनी स्कूटर में एक इंतेहाई तरक़्क़ी याफ़ता धमाको आला IED ले जा रहे थे। ये वाक़िया गोवा में मिड गोवा के मुक़ाम पर 16 अक्टूबर 2009 को पेश आया था। एक पुलिस ओहदेदार ने नाम मख़फ़ी रखने की शर्त पर बताया कि हमें शुबा है कि पनसारे क़तल केस में मफ़रूर रौदा पटेल असल मुल्ज़िम है जिसकी तलाश शुरू कर दी गई है।

क़बल अज़ीं इस केस में संतान संस्था के एक सरगर्म कारकुन समीर गायकवाड़ को सांगली में और एक मुंबई में और दीगर 2 को कर्नाटक से गिरफ़्तार करलिया गया था। उन्होंने बताया कि समीर गायकवाड़ काल डाटा रेकॉर्ड की तहकीकात से पता चला है कि वो रो दर्रा पटेल के साथ मुतवातिर राबिता में था और इन दोनों ने कोलहापूर में सी पी आई लीडर के क़तल से एक माह क़बल उनके अफ़रादे ख़ानदान की नक़ल-ओ-हरकत पर नज़र रखे हुए थे।

रो दर्रा जो कि गोंडा पटेल का चाचा और दाएं बाज़ू की तंज़ीम का कट्टर हामी है। उन्होंने बताया कि इस केस में बहुत जल्द ख़ुसूसी तहक़ीक़ाती टीम हैरत अंगेज़ इन्किशाफ़ात करेगी। रो दर्रा की अहलिया प्रीति पटेल जो कि एक वकील है। समीर गायकवाड़ के केस की पैरवी का ऐलान किया है क्यों कि कूल्हा पूर डिस्ट्रिक्ट बार एसोसीएशन‌ ने इस केस से इज़हार ला-तअल्लुक़ी करलिया है।

वाज़िह रहे कि क़ौमी तहक़ीक़ाती इदारा ( एन आई ए ) ने 2009 में गोवा धमाके के बाद रो दर्रा और सारंग को मफ़रूर मुल्ज़िमीन क़रार दिया था। और एन आई ए ने अपने वेबसाइट पर दोनों मुल्ज़िमीन की तसावीर दीगर तफ़सीलात के साथ पेश कर दिया है। दरें असनाए संतान संस्था के तर्जुमान अभय‌ वृत्तिक ने रो दर्रा पटेल की खुल कर हिमायत की है और कहा कि वो हमारे लिये क़ुव्वत मुहर कि हैं और मुश्किल वक़्त उनके साथ एक चट्टान की तरह खड़े हो जाएंगे|

TOPPOPULARRECENT