Tuesday , October 24 2017
Home / World / परवेज़ मुशर्रफ़ के लिए ख़ुसूसी सेक्यूरिटी इंतिज़ामात

परवेज़ मुशर्रफ़ के लिए ख़ुसूसी सेक्यूरिटी इंतिज़ामात

इस्लामाबाद, 28 मार्च: पाकिस्तानी हुक्काम ने साबिक़ सदर परवेज़ मुशर्रफ़ के वफ़ाक़ी दारुल हुकूमत में ख़ुसूसी सेक्यूरिटी इंतिज़ामात किए हैं। जिलावतनी के बाद पाकिस्तान वापसी से पहले तालिबान ने उन्हें जान से मार डालने की धमकी दी थी। कल इ

इस्लामाबाद, 28 मार्च: पाकिस्तानी हुक्काम ने साबिक़ सदर परवेज़ मुशर्रफ़ के वफ़ाक़ी दारुल हुकूमत में ख़ुसूसी सेक्यूरिटी इंतिज़ामात किए हैं। जिलावतनी के बाद पाकिस्तान वापसी से पहले तालिबान ने उन्हें जान से मार डालने की धमकी दी थी। कल इस्लामाबाद आने से पहले परवेज़ मुशर्रफ़ के लिए सख़्त सेक्यूरिटी इंतिज़ामात किए गए हैं और उन के फ़ार्म हाऊज़ चक शहज़ाद के बाहर 3 कमांडोज़ को ताय्युनात किया गया है।

शहर के मुज़ाफ़ात में ये फ़ार्म हाऊज़ उस वक़्त सयासी सरगर्मियों का मर्कज़ बना हुआ है। यहां सेक्यूरिटी को चौकस कर दिया गया है और इस ख़ानगी इमारत के क़रीब नई सड़क रुकावटें खड़ी करदी गई हैं। मुशर्रफ़ के दौरे के दौरान मुश्तबा ख़वातीन पर नज़र रखने के लिए ख़ातून पुलिस ओहदेदारों को भी ताय्युनात किया गया है। इस्लामाबाद के पुलिस सरबराह बिन यामीन ने हस्सास मुक़ामात पर सेक्यूरिटी को ताय्युनात करने का हुक्म दिया है।

मुशर्रफ़ ने शुमाली पाकिस्तान में चित्राल के एक पारलिमानी हलक़े से आम इंतिख़ाबात में हिस्सा लेने का फ़ैसला किया है। उन की पार्टी के अरकान ने आज ये ऐलान किया। ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग के एक लीडर शहज़ाद ख़ालिद परवेज़ ने बताया कि परवेज़ मुशर्रफ़ ख़ैबर पख़तूनख़ाह सूबा में कल चित्राल इलाक़े के हलक़े के लिए अपना पर्चा नामज़दगी दाख़िल करेंगे। बताया जाता है कि साबिक़ सदर सिंध और सूबा पंजाब से भी मुक़ाबला करेंगे। साबिक़ सदरे पाकिस्तान जनरल परवेज़ मुशर्रफ़ ने कहा कि उन्हें कारगिल जंग पर फ़ख़र है जिस के दौरान पाकिस्तानी फ़ौजी ख़त क़बज़ा पार करके 1999 में हिन्दुस्तानी इलाक़े में पहुंच गए थे।

मुशर्रफ़ ने ये तबसिरा उस वक़्त किया जब उन से कारगिल मसले पर कराची की एक प्रेस कान्फ़्रेंस में उन के किरदार पर सख़्त तन्क़ीद की गई थी। जिस वक़्त कारगिल जंग हुई थी, परवेज़ मुशर्रफ़ पाकिस्तान के सरबराह फ़ौज थे। बादअज़ां उन्होंने साबिक़ वज़ीरे आज़म नवाज़शरीफ़ की हुकूमत का तख़्ता उलट दिया था और ख़ुद इक़तिदार संभाल लिया था।

TOPPOPULARRECENT