Saturday , September 23 2017
Home / Politics / पश्चिम बंगाल में कांग्रेस को एक और झटका

पश्चिम बंगाल में कांग्रेस को एक और झटका

कोलकाता: मालदा के बाद कांग्रेस को आज मुर्शिदाबाद में भी झटका लगा है जबकि पार्टी के 7 सदस्यों की तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने से जिला परिषद से नियंत्रण खो दिया है। परिवहन मंत्री और वरिष्ठ तृणमूल नेता ने बताया कि मुर्शिदाबाद जिला परिषद के 70 सदस्यों में से कांग्रेस के 10 सदस्यों ने बगावत कर दी है। जबकि सत्तारूढ़ दल के 29 सदस्य हैं और उन्हें बोर्ड पर कब्जा करने के लिए 6 सदस्यों की जरूरत थी। और अब कांग्रेस के 7 सदस्यों की भागीदारी के बाद टीएमसी के बहुमत में आ गई है।

टीएमसी में शामिल 10 सदस्यों में से 7 कांग्रेस, 2 माकपा और एक आरएसपी के हैं। जिले मुर्शिदाबाद कांग्रेस एक मजबूत गढ़ माना जाता था। इस विद्रोह से पार्टी को करारा झटका पहुंचा है। इस खोज किए जाने पर टीएमसी अन्य दलों के नेताओं को विचलन प्रोत्साहन दे रही है? उन्होंने कहा कि संविधान के अनुसार पार्टी में शामिल होने की अनुमति दी जा रही है।

उन्होंने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के विकास कार्यों से प्रभावित होकर दूसरे दलों के नेताओं टीएमसी में शामिल कर रहे हैं। चूंकि पूरे राज्य में तृणमूल कांग्रेस के शासन है इसलिए जिले मुर्शिदाबाद को अलहदा कैसे रखा जा सकता है। गौरतलब है कि पिछले महीने भी कांग्रेस के एक और गढ़ मालदा में जिला परिषद पर टीएमसी ने उस समय जब्त कर लिया था जब कांग्रेस और लेफ्ट के 14 सदस्यों ने विचलन कर दिया। मुर्शिदाबाद के कांग्रेस विधायक मनोज चक्रवर्ती ने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि यह अत्यंत अनैतिक बात है कि एक पार्टी के टिकट पर जीत कर दूसरी पार्टी में शामिल हो जाएं। वरिष्ठ माकपा नेता सचिन चक्रवर्ती ने आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ टीएमसी, राज्य में विपक्ष का सफाया कर दिया और विचलन के लिए लालच के साथ डर भी किया जा रहा है ..

TOPPOPULARRECENT