Sunday , August 20 2017
Home / World / ब्रिक्स घोषणापत्र : पाक आतंकवाद पर बंटे देश, IS का नाम, जैश का नहीं

ब्रिक्स घोषणापत्र : पाक आतंकवाद पर बंटे देश, IS का नाम, जैश का नहीं

(L-R) Brazilian President Michel Temer, Russian President Vladimir Putin, Indian Prime Minister Narendra Modi, Chinese President Xi Jinping and South African President Jacob Zuma pose for a group photo during the BRICS Summit in Goa on October 16, 2016. Indian Prime Minister Narendra Modi hosted leaders of the BRICS emerging powers at a summit seeking to boost trade ties and help overcome the bloc's economic woes. / AFP PHOTO / MONEY SHARMA

नई दिल्ली : ब्रिक्स घोषणापत्र में आतंकवाद पर नकेल कसने के संदर्भ में आईएसआईएस का तो जिक्र है, लेकिन पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का नहीं। इस पर आर्थिक रिश्तों के महासचिव अमर सिन्हा ने कहा कि इस मामले में सदस्य देशों में सहमति नहीं बन सकी। उन्होंने कहा कि भारत पाकिस्तानी आतंकी समूहों की कार्रवाइयों का शिकार रहा है, ब्रिक्स के अन्य देश नहीं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को ब्रिक्स सम्मेलन में दावा किया कि आतंकवाद के मुद्दे पर ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका में सर्वसम्मति है, लेकिन अधिकारियों ने मतभेद को स्वीकार किया है और यह चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के भाषण और साझा घोषणा पत्र से भी स्पष्ट हो गया।

ब्रिक्स नेताओं के साथ बैठकों में पांच घंटे के भीतर अपने चार संबोधनों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकवाद का मुद्दा उठाया। प्रधानमंत्री की कोशिश आतंकवाद के मुद्दे को एजेंडे की प्राथमिकता में रखने की थी, जबकि ब्रिक्स का फोकस पारंपरिक तौर पर प्रभावी ग्लोबल आर्थिक मंच बनने का रहा है। अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आतंकवाद के खिलाफ निर्णायक लड़ाई का आह्वान किया और पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय आतंकवाद का पनाहगाह करार दिया।

TOPPOPULARRECENT