Saturday , October 21 2017
Home / Islami Duniya / पाकिस्तानी सख़्तगीर उल्मा ने भी पिशावर हमला की मुज़म्मत की

पाकिस्तानी सख़्तगीर उल्मा ने भी पिशावर हमला की मुज़म्मत की

पाकिस्तान के एक सख़्तगीर आलिमे दीन और लाल मस्जिद के इमाम और ख़तीब ने पिशावर के स्कूल पर हुए तालिबान हमला में बच्चों के क़त्ले आम की मुज़म्मत की है और क़ब्लअज़ीं किए गए अपने रिमार्क्स पर माज़रत ख़्वाही की है कि अस्करीयत पसंदों का ये इक़दा

पाकिस्तान के एक सख़्तगीर आलिमे दीन और लाल मस्जिद के इमाम और ख़तीब ने पिशावर के स्कूल पर हुए तालिबान हमला में बच्चों के क़त्ले आम की मुज़म्मत की है और क़ब्लअज़ीं किए गए अपने रिमार्क्स पर माज़रत ख़्वाही की है कि अस्करीयत पसंदों का ये इक़दाम क़ाबिले फ़हम है जो फ़ौजी कार्रवाई के जवाब में किया गया है। उन के इस रिमार्क्स पर पाकिस्तान में मुख़्तलिफ़ गोशों से सख़्त तरीन तन्क़ीद और मुज़म्मत की गई थी।

मौलाना अब्दुल अज़ीज़ ने कहा कि में माज़रत ख़्वाही करता हूँ और स्कूली बच्चों की हलाकतों की मुज़म्मत करता हूँ ताहम उन्हों ने पिशावर क़त्ले आम पर कोई तबसरा करने से इन्कार कर दिया हालाँकि इस वाक़िया में 148 अफ़राद हलाक हो गए थे जिन में कमसिन बच्चों की अक्सरीयत है। मौलाना अब्दुल अज़ीज़ जो मुल्ला बुर्क़ा के लक़ब से भी मारूफ़ हैं इस हमला की मुज़म्मत करने से इन्कार कर दिया था।

वाज़ेह रहे कि जेनरल परवेज़ मुशर्रफ़ के दौरे सदारत में लाल मस्जिद पर की गई फ़ौजी कार्रवाई के दौरान अब्दुल अज़ीज़ बुर्क़ा पहन कर फ़रार होने की कोशिश करते हुए पकड़े गए थे जिस के बाद से आम तौर पर मुल्ला बुर्क़ा कहा जाता है।

फ़ौजी कार्रवाई के दौरान इस मस्जिद के काम्प्लेक्स से गै़र क़ानूनी असलहा का भारी ज़ख़ीरा भी बरामद हुआ था और कार्रवाई में तक़रीबन 100 अफ़राद हलाक हो गए थे जिन में मौलाना अब्दुल अज़ीज़ के छोटे भाई भी शामिल हैं और ख़ुद मौलाना अपनी गिरफ़्तारी या हलाकत से बचने के लिए बुर्क़ा पहन कर फ़रार होने की कोशिश करते हुए गिरफ़्तार किए गए थे।

TOPPOPULARRECENT