Sunday , October 22 2017
Home / World / पाकिस्तान ईरान ताल्लुक़ात मुस्तहकम, बैन-उल-अक़वामी दबाव मुस्तरद

पाकिस्तान ईरान ताल्लुक़ात मुस्तहकम, बैन-उल-अक़वामी दबाव मुस्तरद

पाकिस्तान के सदर आसिफ़ अली ज़रदारी ने आज कहा कि किसी भी बैन-उल-अक़वामी दबाओ से ईरान के साथ पाकिस्तान के देरीना ताल्लुक़ात मुतास्सिर नहीं होंगे। उन्होंने इद्दिआ किया कि तेहरान के साथ ईस्लामाबाद तयशुदा तमाम प्रोजेक़्टों को रूबा अमल ल

पाकिस्तान के सदर आसिफ़ अली ज़रदारी ने आज कहा कि किसी भी बैन-उल-अक़वामी दबाओ से ईरान के साथ पाकिस्तान के देरीना ताल्लुक़ात मुतास्सिर नहीं होंगे। उन्होंने इद्दिआ किया कि तेहरान के साथ ईस्लामाबाद तयशुदा तमाम प्रोजेक़्टों को रूबा अमल लाने के अज़म का पाबंद है इन में हिक्मत-ए-अमली की हामिल गैस पाइपलाइन भी शामिल है।

मिस्टर ज़रदारी यहां कान्फ्रेंस में अपने अफ़्ग़ानी और ईरानी हम मंसबूबों से मुलाक़ात और बातचीत के बाद प्रेस कान्फ्रेंस से ख़िताब कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हमें एक दूसरे के साथ बैन इन्हिसारी की ज़रूरत है और एक महफ़ूज़ पाकिस्तान ही एक ख़ुशहाल पाकिस्तान हो सकता है।

उन्होंने कहाकि हमारे बाहमी ताल्लुक़ात किसी भी किस्म के बैन-उल-अक़वामी दबाओ से मुतास्सिर नहीं हो सकते। मिस्टर ज़रदारी इस सवाल का जवाब दे रहे थे कि आया पाकिस्तान और ईरान अपने पाइपलाइन प्रोजेक़्ट को जारी रखने के लिए आलमी बिरादरी के दबाओ की मुज़ाहमत करेंगे।

वाज़िह रहे कि ईरान के ख़िलाफ़ इस के न्यूक्लियर प्रोग्राम के सबब आइद कर्दा बैन-उल-अक़वामी पाबंदीयों से इस पाइपलाइन प्रोजेक़्ट को जारी रखने के बारे में शकूक-ओ-शुबहात पैदा हो गए हैं। मिस्टर ज़रदारी ने कहाकि पाकिस्तान इस पाइपलाइन के बारे में आलमी बिरादरी से बातचीत कर रहा है।

TOPPOPULARRECENT