Friday , August 18 2017
Home / Crime / पाकिस्तान: एक ईसाई व्यक्ति पर ‘धर्म के अपमान’ का आरोप

पाकिस्तान: एक ईसाई व्यक्ति पर ‘धर्म के अपमान’ का आरोप

पंजाब: पाकिस्तानी पुलिस नदीम जेम्स नामक व्यक्ति की खोज में है, जिस पर आरोप है कि उसने अपने एक मुसलमान दोस्त को मोबाइल फोन के माध्यम से इस्लाम धर्म के बारे में एक ‘गुस्ताखाना नज़्म’ भेजी थी।यासिर बशीर ने रविवार को पाकिस्तानी प्रांत पंजाब के जिला गुजरात पुलिस को सुनील जेम्स के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई थी। यासिर कहते नदीम ने उसे मोबाइल फोन एप्लिकेशन ‘वाट्सएप’ के माध्यम से एक ‘अपमानजनक’ कविता भेजी थी।

जर्मन समाचार एजेंसी डी पी ए स्थानीय पुलिसकर्मी साना अल्लाह का हवाला देते हुए कहा है, कि” हमने कविता में इस्तेमाल किए गए अपमानजनक शब्दों के आधार पर केस दर्ज किया है और सुनील जेम्स को खोज रहे हैं। ” साना उल्लाह ने बताया कि यह कविता अत्यंत ‘अपमानजनक’ है, इसलिए केस दर्ज किया गया है, ” मुझे इस कविता को पढ़ने पर भी अफसोस है। ”

तीस वर्षीय नदीम एक शादीशुदा व्यक्ति है और अपने खिलाफ मामला दर्ज होने के बाद से अपने क्षेत्र से फरार है।’नेशनल कमीशन फॉर जस्टिस एंड पीस’ के अनुसार सन 1987 से 2015 तक 1481 व्यक्तियों पर निन्दा या धर्म के कानून के तहत आरोप लगाए जा चुके हैं

गौरतलब है कि पाकिस्तान में धर्म के अपमान के कानून के कार्यान्वयन पूर्व सैन्य जनरल जिया उल हक के शासनकाल में हुआ था। और यह अपराध साबित होने के मामले में कैद या फांसी की सजा दी भी जा सकती है।

‘नेशनल कमीशन फॉर जस्टिस एंड पीस’ के अनुसार सन 1987 से 2015 तक 1481 व्यक्तियों पर निन्दा या धर्म के कानून के तहत आरोप लगाए जा चुके हैं। इनमें 736 मुसलमान, 502 अहमदी, 206 ईसाई और 26 हिन्दू हैं जबकि 11 ऐसे लोग भी हैं, जो किसी भी धर्म में विश्वास नहीं रखते।अब तक 9 लोगों को ईशनिंदा कानून के तहत मौत की सजा सुनाई जा चुकी है और तीन लोगों को उम्रकैद की सजा हो चुकी है। गौरतलब है कि अब तक किसी को भी कानून के तहत फांसी नहीं दी गई।

TOPPOPULARRECENT