Tuesday , September 26 2017
Home / Sports / पाकिस्तान और इंग्लैंड की टीमें 25 साल बाद किसी टूर्नामेंट के नॉकआउट राउंड में

पाकिस्तान और इंग्लैंड की टीमें 25 साल बाद किसी टूर्नामेंट के नॉकआउट राउंड में

चैम्पियंस ट्रॉफ़ी के पहले सेमीफ़ाइनल में बुधवार को मेज़बान इंग्लैंड का मुक़ाबला पाकिस्तान से होने वाला है. इस मुक़ाबले में एक ओर इंग्लैंड की टीम है जो चैम्पियंस ट्रॉफ़ी में अब तक अजेय रही है, वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान की टीम है जिसे एकदम अविश्वसनीय टीम माना जा रहा है. इंग्लैंड को टूर्नामेंट की शुरुआत से फ़ेवरिट माना जा रहा है. टीम अपने तीनों ग्रुप मैच जीतकर सेमीफ़ाइनल में पहुंची है. बांग्लादेश और न्यूज़ीलैंड को प्रभावी अंदाज़ में हराने के बाद इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया को भी हराया है.

वहीं पाकिस्तान की टीम भारत के हाथों हारने के अलावा श्रीलंका के ख़िलाफ़ भी एक समय हार की कगार पर नज़र आ रही थी, लेकिन पाकिस्तानी कप्तान सरफ़राज़ अहमद ने बेहतरीन और ज़िम्मेदारी वाली पारी खेल कर टीम को सेमी फ़ाइनल में पहुंचाया.

ऐसे में दोनों टीमों के बीच एक ज़ोरदार मुक़ाबले की उम्मीद की जा रही है और ख़ास बात ये है कि पाकिस्तान और इंग्लैंड की टीमें 25 साल बाद किसी टूर्नामेंट के नॉकआउट राउंड में भिड़ रही हैं.

इससे पहले दोनों टीमें नॉकआउट राउंड में 1992 के वर्ल्ड कप के फ़ाइनल में टक्कर हुई थी. 25 मार्च, 1992 को एडिलेड में खेले गए मुक़ाबले में पाकिस्तान ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए 50 ओवर में छह विकेट पर 249 रन बनाए. इमरान ख़ान ने कप्तानी पारी खेलते हुए सबसे ज़्यादा 72 रन बनाए थे.

इसके जवाब में इंग्लैंड की टीम 50वें ओवर में 227 रनों पर सिमट गई थी. नील फ़ेयरब्रदर ने 62 रन ज़रूर बनाए, लेकिन उनकी टीम पिछड़ गई.

पाकिस्तान ने 22 रनों की जीत के साथ वर्ल्ड कप जीतकर अपने कप्तान इमरान ख़ान को शानदार विदाई दी थी. हालांकि इस टूर्नामेंट के ग्रुप मुक़ाबले में इंग्लैंड ने पाकिस्तान को महज 74 रनों पर समेट दिया था, बारिश के चलते इस मुक़ाबले को रद्द करना पड़ा था नहीं तो पाकिस्तान का टूर्नामेंट से बोरिया बिस्तर बंध जाता.

ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यही है कि क्या इंग्लैंड 25 साल पहले मिली हार का बदला अपने घेरलू मैदान पर ले पाएगा?

जो रूट, ईऑन मॉर्गन और एलेक्स हेल्स जैसे बल्लेबाज़ ज़ोरदार फॉर्म में नज़र आ रहे हैं. वहीं गेंदबाज़ी में लियम प्लंकेट और आदिल राशिद का प्रदर्शन शानदार रहा है. बेन स्टोक्स जैसा ऑलराउंडर भी टीम में मौजूद है. टीम प्रबंधन सेमीफ़ाइनल मुक़ाबले के लिए सलामी बल्लेबाज़ जेसन रॉय की जगह जॉनी बैरिस्टो को सलामी बल्लेबाज़ के तौर आजमा सकता है.

इंग्लिश टीम को अपने घरेलू मैदान पर खेलने का लाभ भी मिलेगा. इतना ही नहीं, पिछले 14 वनडे मुक़ाबलों में 12 बार इंग्लैंड ने पाकिस्तान को हराया है.

बावजूद इन सबके इंग्लैंड की टीम पाकिस्तान की चुनौती को हल्के में नहीं ले सकती. क्योंकि पाकिस्तानी टीम में उलटफ़ेर करने वाले सितारे भरे हुए हैं. कप्तान सरफ़राज़ अहमद ने श्रीलंका के ख़िलाफ़ जिस तरह टीम को जीत दिलाई, उससे टीम का मनोबल भी बढ़ा हुआ है. टीम में अज़हर अली, बाबर आज़म, मोहम्मद आमिर और ज़ुनैद ख़ान जैसे नेचुरल टैलेंट वाले खिलाड़ी मौजूद हैं.

ऐसे में मैच के दौरान सबकी नज़रें इस बात पर टिकी होंगी कि 25 साल बाद इंग्लैंड वर्ल्ड कप फ़ाइनल की हार का हिसाब चुकता कर पाएगा या फिर पाकिस्तानी टीम एक बार फिर उलटफ़ेर कर दिखाएगी.

TOPPOPULARRECENT