Tuesday , September 26 2017
Home / International / पाकिस्तान और बांग्लादेश सुरक्षित देश नहीं हैं, एमनेस्टी इंटरनेशनल

पाकिस्तान और बांग्लादेश सुरक्षित देश नहीं हैं, एमनेस्टी इंटरनेशनल

नोइस: मानवाधिकार संगठन एमनेस्टी इंटरनेशनल ने यूरोपीय संघ की ओर से पाकिस्तान और बांग्लादेश को ‘सुरक्षित देश’ घोषित करने के प्रस्ताव को खारिज कर दिया है। एमनेस्टी ने उत्तरी अफ्रीकी देशों को सुरक्षित करार दिए जाने के फैसले पर भी आलोचना की है।

दुनिया भर में मानव अधिकारों के लिए सक्रिय संगठन एमनेस्टी इनटरनेशनल यूरोपीय संघ के सदस्य देशों के बीच पाकिस्तान और बांग्लादेश को ‘सुरक्षित राज्यों’ की सूची में शामिल किए जाने के बारे में चल रही बहस को खारिज करते हुए कहा है कि यह दक्षिण एशियाई राज्य किसी भी रूप में ‘सुरक्षित देश’ नहीं हैं।

एमनेस्टी इंटरनेशनल जर्मन शाखा के तीन दिवसीय वार्षिक बैठक में 16 मई को जर्मनी के शहर नोइस में संपन्न हो गया। बैठक के बाद एमनेस्टी इंटरनेशनल प्रवक्ता गाबी शटाईन यूरोपीय संघ और जर्मनी से मांग की कि वह शरणार्थियों और आप्रवासियों को बेहतर सुरक्षा प्रदान करने के लिए और अधिक कदम उठाएं।

एमनेस्टी के प्रवक्ता का कहना था, ” राजनीतिक शरण लेने का अधिकार बुनियादी मानव अधिकारों में शामिल होता है लेकिन शरण का अधिग्रहण मौजूदा दौर में बदस्तूर मुश्किल होता जा रहा है। ”

मानवाधिकार संगठन की जर्मन शाखा के इस तीन दिवसीय बैठक में तुर्की और यूरोपीय संघ के बीच तय करने वाले विवादास्पद समझौते पर फिर से गंभीर आलोचना की गई और इसे ‘मानव अधिकारों के साथ संघर्ष’ घोषित किया गया।इसके अलावा यूरोपीय संघ की ओर से तथाकथित ‘सुरक्षित देशों’ से संबंधित शरणार्थियों को जल्द से जल्द  उनके पैतृक देशों को वापसी के फैसले पर भी गंभीर चिंता व्यक्त की गई।

एमनेस्टी इंटरनेशनल जर्मनी के वार्षिक सम्मेलन के दौरान यूरोपीय देशों की ओर से पाकिस्तान और अफगानिस्तान को ‘सुरक्षित देश’ करार दिए जाने के प्रस्ताव को भी खारिज कर दिया गया। संभवतः ‘सुरक्षित देशों’ की सूची में शामिल किए जाने के बाद पाकिस्तान और बांग्लादेश से संबंध रखने वाले आप्रवासियों को आगामी यूरोपीय संघ में शरण मिलने की संभावना बहुत कम हो जाएंगे।

एमनेस्टी का कहना है कि इन देशों में हिंसा, अल्पसंख्यकों से संबंधित लोगों पर अत्याचार और अभिव्यक्ति प्रतिबंध लगाए जाने जैसे कदम रोजमर्रा की दिनचर्या है, इसलिए उन्हें ‘सुरक्षित देश’ घोषित करने का फैसला गलत होगा।जर्मनी की संघीय संसद ने हाल ही में अल्जीरिया, मोरक्को और ट्यूनीशिया को ‘सुरक्षित देश’ करार देने के फैसले की पुष्टि कर दी थी। एमनेस्टी इंटरनेशनल ने जर्मन संसद के इस फैसले को भी कड़ी आलोचना का शिकार बनाया है।

TOPPOPULARRECENT