Monday , September 25 2017
Home / Featured News / पाकिस्तान के साथ बातचीत आरएसएस की सहायता

पाकिस्तान के साथ बातचीत आरएसएस की सहायता

जम्मू: केंद्र सरकार को उकसाहट के सामने घुटने नहीं टेकना चाहिए और पाकिस्तान के साथ अपने संपर्कों को बनाए रखना चाहिए। आरएसएस ने अलग होना पसंद का मज़ाक उड़ाते हुए जिन्हें पाकिस्तान समारोह में आमंत्रित किया गया है कहा कि वह दिल्ली में राजदूत के रूप में काम कर रहे हैं।

वह इस देश के साथ दोस्ताना संबंध नहीं रखते ‘हमारे पड़ोसियों के साथ दोस्ताना संबंध हैं’ हमें चाहिए कि अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए संघर्ष जारी है और मूर्खों के बारे में चिंतित होना छोड़ दें। आरएसएस के क्षेत्रीय संचालक कृपया जम्मू कश्मीर ब्रिगेडियर सोचयत सिंह ने एक संवाददाता सम्मेलन के दौरान कहा कि कट्टरपंथी अलग होना नेता सैयद अली शाह गिलानी और आसिया अंद्राबी उन लोगों में शामिल हैं जिन्हें पाकिस्तान दिवस पाकिस्तान समारोह में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया जो दिल्ली में 23 मार्च को पाकिस्तानी दूतावास में मनाई जाएगी।

उनके अलावा जेकेएलएफ प्रमुख यासीन मलिक और उदारवादी हुर्रियत कांफ्रेंस के सदर मीरवाइज़ उमर फ़ारूक़ को भी समारोह में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया है। आरएसएस ने कहा कि हमें अपने दृष्टिकोण परजोर तरीके से पेश करना चाहिए ‘उन्हें अनुकूलित पालन करने के लिए छोड़ देना चाहिए।

प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री जेतिंदर सिंह को भी समारोह में आमंत्रित किया गया है। हालांकि ज़राए के मुताबिक उनकी भागीदारी की संभावना नहीं है। पाकिस्तान ने हर साल दिवस पाकिस्तान समारोह में भाग लेने से अलग होना पसंद नेताओं को आमंत्रित किया है। सरकार का प्रतिनिधित्व पाकिस्तान के राष्ट्रीय दिवस के स्वागत में पिछले साल राज्य मंत्री मामूली विदेश वी के सिंह ने की थी। कश्मीरी हुर्रियत नेताओं की पाकिस्तानी प्रशासन से मुलाकात हमेशा हिन्दुस्तान‌ की नाराज़गी की वजह बनी हुई है।

TOPPOPULARRECENT