Thursday , August 17 2017
Home / International / पाकिस्तान: ननकाना साहिब में तनाव , 10 से अधिक घायल

पाकिस्तान: ननकाना साहिब में तनाव , 10 से अधिक घायल

पाकिस्तान में सिखों के पवित्र स्थानों के युक्त ऐतिहासिक शहर ननकाना साहिब में स्थिति अभी तक तनावपूर्ण है और इस बार इस तनाव के कारण धार्मिक असहिष्णुता नहीं बल्कि भ्रष्टाचार और सरकारी अक्षमता बताई जा रही है।

शहर में अवैध अतिक्रमण के खिलाफ कार्रवाई के जवाब में सामने आने वाले प्रतिक्रिया के परिणामस्वरूप पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों की संपत्तियों और भूमि की देखभाल करने वाली संस्था मतरोकह वक्फ संपत्ति बोर्ड के स्थानीय कार्यालय को आग लगाई जा चुकी है। अधिकांश रिकॉर्ड और पांच मोटरसाइकिलों को भी आग के हवाले कर दिया गया है।

शहर के विभिन्न क्षेत्रों में पुलिस और विरोध प्रदर्शनकारियों के बीच संघर्ष के परिणामस्वरूप 10 से अधिक लोग घायल हो चुके हैं, जिनमें एक इंस्पेक्टर सहित छह पुलिस वाले भी शामिल हैं। स्थिति पर काबू पाने के लिए अन्य जिलों से अधिक सदस्यीय मंगवाई जा रही है और शहर में सभी व्यावसायिक गतिविधियां निलंबित हो चुकी हैं।

यह उल्लेखनीय है कि विभाजन के बाद जो गैर मुस्लिम लोग पाकिस्तान छोड़ कर भारत चले गए थे उनकी संपत्ति, भूमि और पूजा स्थलों की देखभाल मतरोकह वक्फ संपत्ति बोर्ड नामक एक संघीय संस्था है। इस संस्था के प्रमुख और पाकिस्तान मुस्लिम लीग नून के नेता सिद्दीक अल्फारुकी ने लाहौर में एक हंगामी संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि उनका संगठन अल्प्संखियों की मिलकियत 19000 एकड़ जमीन की देखभाल कर रहा है, लेकिन देश के कुछ क्षेत्रों में अल्पसंख्यकों की इस जमीन पर कब्जा किया जा चुका है। उनके अनुसार लाहौर से सौ किलोमीटर दूर स्थित सिखों के पवित्र शहर ननकाना साहिब में भी इस संस्था की भूमि पर कब्जा समूहों ने अवैध कब्जा कर रखा है और इस क्षेत्र के एक मुस्लिम लीग नून से ही ताल्लुक रखने वाला एक एमपीए जुलकरनैन डोगर उन कब्जा समूहों की संरक्षण कर रहा है और यही व्यक्ति अल्पसंख्यकों की भूमि पर कब्जा छुड़ाने के प्रयासों में बाधा बना हुआ है।

यह बात भी उल्लेखनीय है कि डोगर का संबंध प्रमुख धर्मगुरू प्रोफेसर साजिद मीर पार्टी जमीयत अहले हदीस से रहा है। जमीयत अहले हदीस के प्रवक्ता के अनुसार डोगर को मुस्लिम लीग नून का टिकट नून लीग सहयोगी जमीयत अहले हदीस की सिफारिश पर ही मिला था और उन्हें मुस्लिम लीग नून के टिकट पर चुनाव लड़ने की अनुमति दी गई थी। एक सवाल के जवाब में प्रवक्ता ने डी डब्ल्यू को बताया की डोगर पर लगने वाले आरोपों की जांच होनी चाहिए और उनके सही होने की स्थिति में उनके खिलाफ आवश्यक कार्रवाई होनी चाहिए।

उधर सिद्दीक़ अल्फारुकी ने मुस्लिम लीग नून के टिकट पर निर्वाचित एमपीए डोगर की नेतृत्व में कब्जा समूहों की कानून विरोधी कृत्यों का रिपोर्ट आईजी पंजाब और गृह सचिव को दिया है। उधर पंजाब के मुख्यमंत्री शाहबाज शरीफ ने भी मुस्लिम लीग एमपीए के इशारे पर अल्पसंख्यकों की जमीन हथियाने की घटनाओं का संज्ञान लेते हुए संबंधित अधिकारियों से रिपोर्ट मांगी है।

पुलिस और विरोध प्रदर्शनकारियों के बीच संघर्ष के परिणामस्वरूप 10 से अधिक लोग घायल हो चुके हैं, जिनमें एक इंस्पेक्टर सहित छह पुलिस वाले भी शामिल हैं

ननकाना साहिब के निवासी अब्दुश्शकूर ने बताया कि शनिवार की सुबह मतरोकह वक्फ संपत्ति बोर्ड के दर्जनों कर्मियों ने किसी नोटिस के बिना पुलिस की भारी टुकड़ी के साथ करमानवाला चौक में स्थित उसके मामा के घर पर धावा बोल दिया, ” पहले उन्होंने दुकानें गिराना शुरू किया तो वह घर में घुस गए। उन्होंने परिसर से मवेशी भी खोल कर बाहर निकाल दिया और इसके संचालन में भागीदार पुरुष कर्मियों ने घर में मौजूद महिलाओं के साथ बदतमीजी शुरू कर दी। इस पर महिलाओं की चीख-पुकार सुनकर मोहल्ले के लोग इकट्ठे हो गए और उन्होंने पुलिस को महिला से हाथापाई करने से रोकना चाहा लेकिन पुलिस और बोर्ड के लोगों ने मोहल्ले वालों को भी गंभीर अत्याचार। मेरे मामा को गोली लगी वह इस समय अस्पताल में हैं। इस तरह लोग उग्र हो गए और उनके विरोध ने हिंसक रूप अख्तियार कर लिया। ”

मोहम्मद असलम नामक एक नागरिक ने बताया, ” ननकाना साहब एक मॉडल शहर है, हर साल हजारों विदेशी शहर में दुनिया भर से आते हैं। इस शहर की आबादी बढ़ रही है। इस क्षेत्र में सारी पृथ्वी मतरोकह वक्फ संपत्ति बोर्ड है। बोर्ड का स्टाफ पहले रिश्वत लेकर घर बनाने की अनुमति देता है तो बाद में ऊपर से दबाव आने पर यह घर गिरा देता है। ”

कई लोगों ने इस बात की पुष्टि की कि कुछ समय पहले मुस्लिम लीग नून के सदस्य नेशनल असेंबली राय पद अली खान की मृत्यु के बाद यहां होने वाले उपचुनाव में राय पद की पुत्री ने मुस्लिम लीग नून  के उम्मीदवार के रूप में उपचुनाव में हिस्सा लिया तो वोटों के अधिग्रहण के लिए डोगर सहित मुस्लिम लीग नून के कई अन्य नेताओं ने बतौर राजनीतिक रिश्वत लोगों को बोर्ड की जमीनों पर कब्जों की अनुमति दी। डी डब्ल्यू द्वारा बार बार संपर्क करने के बावजूद एमपीए डोगर ने अपना रुख करने से परहेज किया।

दिलचस्प बात यह भी है कि कुछ लोग पिछले कई दशकों से बोर्ड भूमि पर काबिज हैं लेकिन सरकारी पार्टी या स्थानीय निर्वाचित प्रतिनिधियों के साथ राजनीतिक प्रतिबद्धता रखने वाले कब्जा समूहों के खिलाफ आम तौर पर कानून अधिक हरकत में नहीं आता। पर्यवेक्षकों का मानना है कि अब मुस्लिम लीग नून पंजाब में संभावित सैन्य अभियान की शुरुआत से पहले ऐसे ऑपरेशन करके अपने पापों को छिपाना चाहती है। मुदाब्बिर नामक एक युवा के अनुसार ऐसे आपरेशनी के माध्यम कब्जे तो खत्म नहीं होते लेकिन विभाग की रिश्वत का रेट बढ़ जाता है।

उधर पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी सहित कई दलों ने विरोध प्रदर्शनकारियों पर पुलिस हिंसा की निंदा की है। प्रशासन और अंजुमन मज़ारिीन दोनों से प्रविष्टि मुकदमा के लिए आवेदन तैयार कर ली गई हैं हालांकि शनिवार शाम तक कोई मामला दर्ज नहीं किया गया था।

TOPPOPULARRECENT