Sunday , October 22 2017
Home / World / पाकिस्तान में जुमा को यौम इश्क ए रसूल ( स०अ०व०) मनाने के लिऐ हुकूमत का ऐलान

पाकिस्तान में जुमा को यौम इश्क ए रसूल ( स०अ०व०) मनाने के लिऐ हुकूमत का ऐलान

ईस्लामाबाद, २० सितंबर (पी टी आई) हकूमत-ए-पाकिस्तान ने आइन्दा जुमा को यौम इश्क़-ए-रसूल ( स०अ०व०) के तौर पर मनाने का ऐलान करते हुए 21 सितंबर को तातील (अवकाश/ छुट्टी) का ऐलान की है। हकूमत-ए-पाकिस्तान ने इस्लाम दुश्मन गुस्ताखाना फ़िल्म की मु

ईस्लामाबाद, २० सितंबर (पी टी आई) हकूमत-ए-पाकिस्तान ने आइन्दा जुमा को यौम इश्क़-ए-रसूल ( स०अ०व०) के तौर पर मनाने का ऐलान करते हुए 21 सितंबर को तातील (अवकाश/ छुट्टी) का ऐलान की है। हकूमत-ए-पाकिस्तान ने इस्लाम दुश्मन गुस्ताखाना फ़िल्म की मुज़म्मत ( निन्दा) भी की है, जिस के वीडीयो क्लिप्स मंज़र‍ ए‍ आम (सार्वजनिक स्थान) पर आने के बाद आलम इस्लाम में परतशद्दुद एहतिजाज और मुज़ाहिरों ( प्रदर्शन और विरोध) का सिलसिला चल पड़ा है, जिस के नतीजा में ताहाल (अभी त्क) कई अफ़राद हलाक हो चुके हैं।

वज़ीर-ए-आज़म राजा परवेज़ मुशर्रफ़ ने आज मुनाक़िदा काबीनी इजलास ( Cabinet Meeting) की सदारत (नेतृत्व) की और अवाम पर ज़ोर दिया कि वो इस फ़िल्म के ख़िलाफ़ पुरअमन एहतिजाज ( शांती से प्रदर्शन) करें।

काबीना ने इस्लाम दुश्मन फ़िल्म की मुज़म्मत ( निन्दा) करने के एजंडा को तर्क कर दिया, लेकिन 21 सितंबर को यौम इश्क़-ए-रसूल स०अ०व० या यौम हब-ए-नबी स्०अ०व० मनाते हुए इस फ़िल्म के ख़िलाफ़ हुकूमत का एहतिजाज दर्ज करने का फ़ैसला किया है।

इस रोज़ क़ौमी तातील ( राष्ट्रीय छुट्टी) का ऐलान भी किया गया है। राजा परवेज़ अशर्फ़ ने काबीनी इजलास से ख़िताब करते हुए कहा कि मैं चाहता हूँ कि सारी दुनिया को ये पैग़ाम जाय कि पाकिस्तान की वफ़ाक़ी काबीना इस गुस्ताखाना फ़िल्म की सख़्त मुज़म्मत करती है जिस (फ़िल्म) ने दुनिया भर के मुसलमानों में अफ़सोस-ओ-ब्रहमी की लहर दौड़ा दी है।

मैं पाकिस्तान के अवाम पर ज़ोर देता हूँ कि वो पुरअमन एहतिजाज दर्ज कराये, लेकिन एहतिजाज के दौरान सब्र-ओ-तहम्मूल का मुज़ाहरा ( प्रदर्शन) करें और अपनी जायदाद-ओ-इमलाक को नुक़्सान ना पहूँचाएं।

वज़ारत इन्फ़ार्मेशन टेक्नोलोजी को वो पहले ही ये हिदायत कर चुके हैं कि गुस्ताख फ़िल्म पेश करने वाले वेब साईट यू ट्यूब तक रसाई ( पहुँच) को बलॉक कर दें ताकि इस वेब साईट के ख़िलाफ़ भी हमारे एहतिजाज का मुज़ाहरा किया जाय, जिस पर ये गुस्ताख फ़िल्म दस्तयाब ( मौजूद) है।

TOPPOPULARRECENT