Wednesday , October 18 2017
Home / Uttar Pradesh / पार्टी का पट्टा पहन कर आये एमएलए, हंगामा

पार्टी का पट्टा पहन कर आये एमएलए, हंगामा

एसेम्बली में कार्यवाही के दौरान बुध को गले में पार्टी का पट्टा पहन कर आने पर जम कर हंगामा हुआ। इक्तिदार फ़रीक ओपोजीशन की तीखी नोकझोंक के बाद स्पीकर शंशाक शेखर भोक्ता को रेगुलेटरी देना पड़ा।

एसेम्बली में कार्यवाही के दौरान बुध को गले में पार्टी का पट्टा पहन कर आने पर जम कर हंगामा हुआ। इक्तिदार फ़रीक ओपोजीशन की तीखी नोकझोंक के बाद स्पीकर शंशाक शेखर भोक्ता को रेगुलेटरी देना पड़ा।

उन्होंने कहा कि आज से कोई भी एमएलए वैसा पट्टा, शर्ट या कोई ऐसा कपड़ा पहन कर एवान में नहीं आयेगा, जिसमें उसकी पार्टी का इंतिखाबी शिनाख्त दर्ज़ हो। कांग्रेस के एमएलए राजेश रंजन की तरफ से गले में पार्टी का पट्टा लगा कर एवान में आने पर मामले ने तूल पकड़ा।

मिस्टर रंजन ने सुबह में महगामा को डिवीजन बनाने की मांग को लेकर एवान के बाहर धरना दिया था। इसके बाद पार्लियामानी वर्क वज़ीर राजेंद्र सिंह ने उन्हें मना कर एवान में लाया। मिस्टर रंजन ने पार्टी का पट्टा लगा कर एवान में दाखिल किया। इसकी मुखालिफत भाजपा एमएलए ने किया। इक्तिदार फ़रीक चुपचाप बैठा रहा। स्पीकर ने कहा कि इस मामले में एमएलए राजेश रंजन अपने दिमाग से फैसला लें।

इस पर भाजपा एमएलए ने पार्टी दफ्तर से फोन कर पट्टा मंगा लिया। उसके बाद लीडर ओपोजीशन अर्जुन मुंडा, साबिक़ नायब वजीरे आला नायब सदर रघुवर दास, साबिक़ एसेम्बली सदर सीपी सिंह समेत पार्टी के दीगर एसेम्बली रुक्न भी पट्टा लगा कर बैठ गये। इस पर स्पीकर ने झल्ला कर कहा कि क़ौमी पार्टियो (कांग्रेस और भाजपा) के एमएलए अच्छा मिसाल पेश कर रहे हैं। इससे एवान की वकार खराब हो रही है। दोनों पार्टियों ने एवान की वकार को गिराने का काम किया है।

इस पर लीडर ओपोजीशन अर्जुन मुंडा ने कहा कि इसकी शुरुआत इक्तिदार फ़रीक के एमएलए ने की। पार्लियामानी वर्क वज़ीर और इक्तिदार फ़रीक की तरफ़ से कोई कार्रवाई नहीं किये जाने पर उन्होंने मजबूर होकर पट्टा लगाया है। जब इक्तिदार की जानिब से कार्रवाई नहीं होती है, तो उस पर एक्ट कर बताना होता है। वज़ीर साइमन मरांडी ने कहा कि यह अफसोस का मौजू है। स्पीकर ने इशारा दे दिया है। इसमें रेगुलेटरी देने की जरूरत नहीं है। एमएलए लोबिन हेंब्रम ने कहा कि पट्टा लगा कर एवान में आने की शुरुआत आजसू एमएलए ने की थी। तकरीबन आधे घंटे के बहस के बाद स्पीकर ने रेगुलेटरी दिया। इसके बाद एमएलए ने गल्ले से पट्टा उतारा।

TOPPOPULARRECENT