Saturday , October 21 2017
Home / Islami Duniya / पार्लियामेंट की रूकनियत छोड़ेंगे इमरान की पार्टी के एमपी,मुज़ाकरात खारिज

पार्लियामेंट की रूकनियत छोड़ेंगे इमरान की पार्टी के एमपी,मुज़ाकरात खारिज

पाकिस्तान के अपोजिशन लीडर इमरान खान की सियासी पार्टी ने पीएम नवाज शरीफ पर इस्तीफे के लिए दबाव बनाते हुए बैबर पख्तूनख्वा को छोड़ कर सभी एसेंबली और नेशनल एसेंबली से अपने जन नुमाइंदो को वापस बुलाने का फैसला किया.

पाकिस्तान के अपोजिशन लीडर इमरान खान की सियासी पार्टी ने पीएम नवाज शरीफ पर इस्तीफे के लिए दबाव बनाते हुए बैबर पख्तूनख्वा को छोड़ कर सभी एसेंबली और नेशनल एसेंबली से अपने जन नुमाइंदो को वापस बुलाने का फैसला किया. वहीं, रूलिंग पार्टी पीएमएल..एन की हुकुमत मुखालिफीन मुज़ाहिरीन तक पहुंचने की कोशिशें नाकाम हो गई है |

पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ के नायब सदर शाह महमूद कुरैशी ने ऐलान किया , ‘‘हम नेशनल एसेंबली, पंजाब एसेंबली, सिंध एसेंबली ओर बलूचिस्तान एसेंबली से इस्तीफा दे रहे हैं.’’ यहां पाकिस्तान सरकार और शरीफ मुखालिफ मुज़ाहिरीन के साथ पांच दिवसीय मुदाखिलत तेज हो गयी है |

उन्होंने कहा कि फिलहाल उनकी पार्टी कहिबर पख्तूनख्वा सूबे से इस्तीफा नहीं दे रही है क्योंकि सूबे में इत्तेहाद की सरकार है और ऐसा कोई बड़ा फैसला करने से पहले साथी पार्टियों को एतेमाद में लेना होगा |

सभी आईँनी पर चर्चा करने की शरीफ की सरकार की पेशकश खान की पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ और तहिरूल कादरी की पाकिस्तान अवामी तहरीक ने खारिज कर दी है, जिन्होंने मुज़ाहिरे कर सेंट्रल इस्लामाबाद में आवामी ज़िंदगी को परेशान कर दिया है.

शरीफ के इस्तीफे के लिए 48 घंटे की मुद्दत रखने वाले और सरकार के खिलाफ सिविल नाइंसाफी तहरीक का ऐलान करने वाले खान ने बातचीत के लिए सरकार से देर रात मिली पेशकश का जवाब नहीं दिया. क्रिकेटर से लीडर बने खान ने कहा पीछे नहीं मुड़ा जाएगा और वज़ीर ए आज़म के इस्तीफे के अलावा और कुछ मंजूर नहीं होगा | उन्होंने कल अपने हजारों हामियों के साथ ‘रेड जोन’ में मार्च करने की धमकी दी. ‘रेड जोन’ में संसद भवन, सदर और वज़ीर ए आज़म के रिहायशगाह और सिफारतखाने वाके हैं |

उन्होंने यहां अपने हामियों से खिताब करते हुए कहा ‘‘कल मैं पार्लियामेंट और पीएम के रिहायशगाह की ओर जाते हुए आपकी अगुवाई करूंगा.’’ बहरहाल, इमरान खान ने अपने हामियों से मुज़ाहिरा के दौरान अमन बनाए रखने की गुजारिश की | उन्होंने पुलिस से भी गुजारिश किया कि वह उनके और रेड जोन के बीच न आए |

उन्होंने कहा ‘‘पाकिस्तान की पुलिस की तरह सुलूक करें, न कि नवाज शरीफ की पुलिस की तरह.’’ खान ने कहा कि भीड़ की अगुवाई वह करेंगे ताकि पहली गोली उन्हें लगे, उनके हामियों को नहीं |

क्रिकेट की दुनिया से सियासत में आए इमरान खान ने कहा कि पीछे नहीं मुड़ेंगे और वज़ीर ए आज़म के इस्तीफे से कम कुछ भी कुबूल नहीं होगा |

उन्होंने एक ट्वीट में कहा, ‘‘लेकिन मैं इन कारकुनों को पाकिस्तान के मुफाद में अब और खामोश नहीं रख सकता, नवाज शरीफ को फौरन इस्तीफा दे देना चाहिए.’’

मौलवी तहीरूल कादरी ने भी सरकार की तजवीज को खारिज कर दिया और ऐलान किया कि अगर उनकी मांग नहीं मानी गई तो इंकलाब मार्च को मुल्क भर में फैलाने का मंसूबा है | शरीफ के इस्तीफे और एक कौमी हुकूमत की तश्कील की मौलवी तहीरूल कादरी की 48 घंटे की मुद्दत आधी रात को खत्म हो गई |

उन्होंने कहा, ‘‘हम सूबे की अपनी दारुल हुकूमत में मुज़ाहिरा करेंगे ताकि वहां के लोग भी हमारे मुज़ाहिरा में शामिल हो सकें.’’ कादरी ने इस्लामाबाद के आबपारा स्कवायर पर डेरा डाले अपने हजारों हामियों से खिताब करते हुए कहा, ‘‘इंकलाब का वक्त आ गया है.’’ कादरी ने ‘इंकलाब’ को लेकर खान की पार्टी की भी तारीफ की. उन्होंने कहा कि पीएटी और पीटीआई दोनों के ही तहरीक साथ चल रहे हैं और उनका टार्गेट एक ही है |

कादरी ने कहा, ‘‘मैं पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ के कारकुनो को जिंदाबाद कहूंगा..वे हमारे भाई हैं. दो दिनों की मुद्दत का ऐलान करने को लेकर मैं इमरान को मुबारकबाद देता हूं | ’’ इस बीच, कुरैशी ने कहा कि खान की पार्टी के आवामी नुमाइंदो का इस्तीफा कल सुबह मुतालिक स्पीकरों को सौंपा जाना है |

कुरैशी ने कहा कि मई 2013 के आम इंतेखाबात में हुई मुबय्यना तौर पर धांधली के खिलाफ उनकी पार्टी की तरफ से सारे आप्शनो पर गौर कर लिए जाने के बाद यह फैसला किया गया |

पिछले साल के इलेक्शन में शरीफ की पीएमलएल..एन को 342 सीटों में 190 सीटें मिली थी जबकि खान की पार्टी को 34 सीटें मिलीं और वह तीसरी सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी थी. खान ने दावा किया है कि उनकी पार्टी को और ज़्यादा सीटें मिलनी थी लेकिन पीएमएल..एन ने इलेक्श्न में धांधली कर दी | तजज़ियाकारों का मानना है कि इस्तीफों से पार्लियामेंट पर कानूनी तौर पर कोई असर नहीं पड़ेगा और इलेक्शन कमीशन खाली सीटों पर 60 दिन के अंदर जिमनी इंतेखाबात करा लेगा |

जुकूमत ने कल देर रात दो कमेटी बनाने का ऐलान किया की ताकि खान और कादरी से बात की जा सके. दोनों कमेटियों में सभी बड़े सियासी पार्टीयों के लीडरों को शामिल किया गया. डॉन न्यूज की खबर के मुताबिक इस बीच, फौज के चीफ जनरल राहिल शरीफ ने आज पंजाब के सीएम शाहबाज शरीफ और वज़ीर ए दाखिला चौधरी निसार अली खान से रावलपिंडी में मुलाकात की |

अखबार ने बताया है कि बैठक के दौरान यह फैसला किया गया कि दोनों पार्टीयों के साथ फौरन बातचीत शुरू कर उनकी मांगें सुननी चाहिए |

खान ने कल नवाज शरीफ की हुकूमत के खिलाफ सिविल नाफरमानी तहरीक का ऐलान करते हुए कहा था कि मुल्क का मुस्तकबिल इस कारोबारी के इक्तेदार में अंधेरे में हैं |

खान ने एक तकरीर देते हुए अपने हामियों से कहा, ‘‘मैंने आपके लिए Civil Disobedience Movement का ऐलान किया है न कि अपने लिए. हम टैक्स्, बिजली के बिल या गैस के बिल अदा नहीं करेंगे.’’ हालांकि, हुकूमत मुखालिफ मुज़ाहिरा आज कमजोर पड़ता दिखा क्योंकि खान का आजादी मंच और कादरी का इंकलाब मार्च उतनी तादाद में भीड़ जुटाने में नाकाम रहा जितनी कि दोनों लीडरों को उम्मीद थी |

अपोजिशन पार्टियों ने भी खान के Civil Disobedience Movement से खुद को दूर रखा |

साबिक सदर आसिफ अली जरदारी व पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के चेयरमैन ने कहा है कि अपने टार्गेट को हासिल करने के लिए गैर आइनी तरीकों का इस्तेमाल करने की खान की खाहिश ने जम्हूरियत को खतरे में डाल दिया है. जरदारी ने एक बयान में कहा, ‘‘जम्हूरियत और कौम की खिदमत न तो सिविल नाफरमानी तहरीक (Civil Disobedience Movement) का ऐलान करते हुए हो सकती है ना ही सियासी मुद्दे पर बामानी मुज़ाकरात में शामिल होने के किसी फरीक के इनकार करने से हो सकती है.’’ उन्होंने कहा कि पीटीआई की असेंबलियों से इस्तीफों का ऐलान जम्हूरियत अमल की तसलसुल (Continuity) के लिए अच्छा इशारा नहीं है |

उनके तरजुमान फरहतुल्ला बाबर ने कहा कि पीपीपी ने जम्हूरियत अमल में भागीदारी पर दिगर अपोजिश पार्टीयों के साथ फौरन बात चीत शुरू करने का फैसला किया है.

बाबर ने कहा कि इसी के साथ पीपीपी सरकार से पीटीआई की तरफ से इस्तीफे का ऐलान कर उठाए गए मुद्दों पर भी चर्चा करेगी ताकि एक काबिल कबूल हल पर पहुंचा जा सके और जम्हूरियत अमल में रुकावटे न पैदा हो |

इस बीच, हाई कोर्ट ने दारुल हुकूमत के रेड जोन इलाके की ओर बढ़ रहे मुज़ाहिरीन को रोकने की सरकार की दरखास्त खारिज कर दी है. चीफ जस्टिस नसीरूल मुल्क ने कहा कि इससे हुकूमत को निपटना है \

TOPPOPULARRECENT