Monday , October 23 2017
Home / Hyderabad News / पार्लियामेंट में तेलंगाना के मसाइल पर बेहस का फ़ैसला

पार्लियामेंट में तेलंगाना के मसाइल पर बेहस का फ़ैसला

टी आर एस अरकान-ए-पार्लियामेंट ने तेलंगाना रियासत को दरपेश मसाइल पार्लियामेंट के मुजव्वज़ा मीटिंग में मौज़ू बेहस बनाने का फ़ैसला किया है।

टी आर एस अरकान-ए-पार्लियामेंट ने तेलंगाना रियासत को दरपेश मसाइल पार्लियामेंट के मुजव्वज़ा मीटिंग में मौज़ू बेहस बनाने का फ़ैसला किया है।

अरकाने पार्लियामेंट ने चीफ़ मिनिस्टर-ओ-सदर टी आर एस के चन्द्रशेखर राव‌ से मुलाक़ात की और पार्लियामेंट सेशन में पार्टी के मौक़िफ़ और हिक्मत-ए-अमली का जायज़ा लिया।

बताया जाता हैके चीफ़ मिनिस्टर ने अरकाने पार्लियामेंट को मश्वरा दिया कि वो नो क़ायम शूदा तेलंगाना रियासत को दरपेश मसाइल मौज़ू बेहस बनाईं और उनकी यकसूई के लिए हुकूमत पर दबाव‌ डालें। उन्होंने आंध्र प्रदेश की तक़सीम के बाद तेलंगाना के साथ मुख़्तलिफ़ शोबों में की जा रही नाइंसाफ़ीयों की निशानदेही की।

आंध्र प्रदेश तंज़ीम जदीद बिल में तेलंगाना को मुख़्तलिफ़ शोबों में जो हिस्सादारी मुक़र्रर की गई उन पर अमल आवरी में आंध्र प्रदेश हुकूमत की रुकावटों को भी टी आर एस अरकान लोक सभा और राज्य सभा में मौज़ू बेहस बनाएंगे।

रुकने पार्लियामेंट बी सुमन ने अख़बारी नुमाइंदों से बातचीत करते हुए कहा कि तेलंगाना को दरपेश मसाइल की यकसूई के लिए मर्कज़ी हुकूमत पर दबाव बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि रियासत की तरक़्क़ी के लिए दुसरे जमातों को भी मुत्तहदा तौर पर जद्द-ओ-जहद करनी चाहीए। नौ क़ायम शूदा तेलंगाना को सुनहरी तेलंगाना में तबदील करने और अवामी तवक़्क़ुआत की तकमील के सिलसिले में सयासी वाबस्तगी से बाला-ए-तर होकर तमाम जमातों को जद्द-ओ-जहद करनी चाहीए।

सुमन ने कहा कि तेलंगाना के मसाइल की यकसूई के सिलसिले में दुसरे क़ौमी और इलाक़ाई जमातों की ताईद हासिल की जाएगी। पर उन्हीता चीवड़ला प्रोजेक्ट को क़ौमी प्रोजेक्ट का दर्जा देने का मुतालिबा करते हुए सुमन ने कहा कि इस प्रोजेक्ट की तकमील में मर्कज़ को तआवुन करना चाहीए।

सुमन ने तेलंगाना की तमाम अप्पोज़ीशन जमातों से अपील की के वो तेलंगाना की तामीर-ए-नौ में टी आर एस हुकूमत से तआवुन करें। उन्होंने कहा कि एक तवील जद्द-ओ-जहद और क़ुर्बानीयों के ज़रीये तेलंगाना रियासत हासिल की गई है लिहाज़ा अवाम की तवक़्क़ुआत को पूरा करना सिर्फ़ हुकूमत की नहीं बल्कि तमाम सियासी जमातों की ज़िम्मेदारी है।

TOPPOPULARRECENT