Sunday , October 22 2017
Home / Khaas Khabar / पार्लियामेंट मे आज तेलंगाना बिल पेश होगा, रेड्डी दे सकते हैं इस्तीफा!

पार्लियामेंट मे आज तेलंगाना बिल पेश होगा, रेड्डी दे सकते हैं इस्तीफा!

आइंदा आम इंतेखाबात से पहले पार्लियामेंट के इस आखिरी सेशन में अब सिर्फ पांच दिन बचे हैं और ऐसे में मरकज़ी हुकूमत मुतनाज़ा तेलंगाना बिल को किसी भी तरह पार्लियामेंट से पास कराने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रही है |

आइंदा आम इंतेखाबात से पहले पार्लियामेंट के इस आखिरी सेशन में अब सिर्फ पांच दिन बचे हैं और ऐसे में मरकज़ी हुकूमत मुतनाज़ा तेलंगाना बिल को किसी भी तरह पार्लियामेंट से पास कराने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रही है |

ज़राये से मालूम हुआ है कि तेलंगाना बिल आज पार्लियामेंट में पेश किया जाएगा और हुकूमत इसे पास कराने को लेकर पुर अज़्म है | ज़राये ने बताया कि ऐवान में एहतिजाजी मुज़ाहिरा की वजह से अगर इस बिल पर बहस नहीं भी हो पाती है, तो भी हुकूमत इसे पास कराएगी |

हालांकि हुकूमत के लिए टेढ़ी खीर साबित हो सकती है, क्योंकि अब तक इस बिल पर अपोजिशन पार्टी बीजेपी ने साफ कर दिया है कि हुकूमत पार्लियामेंट में सभी की गैरमौजूदगी और हंगामें के बीच इस बिल को पास करने की कोशिश नही की जानी चाहिए |

बीजेपी के सीनीयर लीडर अरुण जेटली ने तेलंगाना की तश्कील के खिलाफ एहतिजाजी मुज़ाहिरा करने की वजह से पार्लियामेंट से मुअत्तल किए गए सभी 16 MPs को नए रियासत की तश्कील की बहस में शामिल होने की इज़ाज़त दिए जाने की मांग करते हुए कहा कि आंध्र प्रदेश का एक ग्रुप इससे गायब नहीं रह सकता |

गौरतलब है कि तेलंगाना की तश्कील की मुखालिफत कर रहे सीमांध्र के लोगों की फिक्र यह है कि नए रियासत की तश्कील के बाद बिजली, पानी और आमदनी का बहुत छोटा सा हिस्सा ही उन्हें मिल पाएगा इस वजह से इस इलाके के तमाम लीडर इस बिल का पुरजोर मुखालिफत कर रहे हैं | इन्हीं में से एक रियासत की वज़ीर ए आला किरण कुमार रेड्डी भी हैं, जिनके बारे में ज़राये से मालूम चला है कि वह रियासत की तक्सीम की मुखालिफत में मंगल के रोज़ यानी आज अपने ओहदा से इस्तीफा दे सकते हैं |

वहीं इस बिल के एहतिजाज में पीर के रोज़ को पार्लियामेंट तक मार्च करने की कोशिश कर रहे तेलंगाना मुखालिफ लीडर जगनमोहन रेड्डी और उनके हामियों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है |

रियासत की तक्सीम के एहतिजाज में धरना दे रहे वाईएसआर कांग्रेस के लीडर जगनमोहन रेड्डी ने कांग्रेस सदर सोनिया गांधी पर सियासी मुफाद के लिए रियासत को बांटने का इल्ज़ाम लगाया | जंतर मंतर पर अपने हामियों के साथ धरने पर बैठे जगन ने इल्ज़ाम लगाया कि रूलिंग पार्टी ने राहुल गांधी को वज़ीर ए आज़म बनाने का वाहिद मकसद के साथ रियासत को तकसीम करने का ख्याल पेश किया, क्योंकि उसे उम्मीद है कि तेलंगाना में टीआरएस की मदद से वह कुछ सीटें जीत सकता है |

सोनिया गांधी के इतालवी नस्ल का हवाला देते हुए जगन मोहन ने हिंदुस्तानी कौमी कांग्रेस को ‘इतालवी कौमी कांग्रेस’ करार दिया और कहा “यहां तक कि अंग्रेजों ने भी वह नहीं किया, जो उन्होंने मेरे आंध्र प्रदेश की रियासत में किया उन्होंने कहा कि रियासत की तक्सीम की मुखालिफत में कांग्रेस के एक एमपी की तरफ से पार्लियामेंट में काली मिर्च के पाउडर का इस्तेमाल किया जाना वास्तव में सीमांध्र के MPs को सस्पेंड करने के लिए कांग्रेस की साजिश थी |

जगन मोहन रेड्डी ने इल्ज़ाम लगाया कि, हंगामे के पीछे कांग्रेस का हाथ था उन्होंने इसकी साजिश रची थी उन्हें यह अच्छी तरह मालूम है कि अमली तौर पर उन्हें कामयाबी नहीं मिलने वाली है, इसलिए उन्होंने यह किया इलेक्शन से महीनों पहले उन्होंने मेरे रियासत को तोड़ दिया |

उन्होंने कहा कि अपनी आवाज उठाने के लिए सीमांध्र के MPs को गैरजम्हूरी के तरीके से सस्पेंड कर दिया गया | रूलिंग पार्टी तेलंगाना की तश्कील के लिए बिल को बिना बहस कराए पास करना चाहती थी |

वाईएसआर कांग्रेस के नेता ने एनडीटीवी से बात करते हुए कहा कि वह आंध्रप्रदेश को मरबूत (Integrated) रखने में हमारी मदद करने वाले किसी भी लीडर की ताईद करने को तैयार हैं, और बीजेपी के पीएम कैंडीडेट नरेंद्र मोदी इसमें मुसतश्ना नही | इसके इलावा जगन ने मुख्तलिफ सियासी पार्टियों के लीडरों से मुलाकात कर रियासत को राज्य को मरबूत रखने के लिए उनकी ताईद मांगे हैं |

TOPPOPULARRECENT