Thursday , October 19 2017
Home / Featured News / पार्ल्यमंट का मानसून सशन हंगामों और गड़बड़ के दौरान मुल्तवी

पार्ल्यमंट का मानसून सशन हंगामों और गड़बड़ के दौरान मुल्तवी

19 दिन में सिर्फ 6 दिन काम होसका । कोयला बलॉक अलाटमैंट मसले पर हुकूमत और बी जे पी में तात्तुल से कोई कार्रवाई मुम्किन ना हो सकी गड़बड़ और हंगामा आराई से मुतास्सिरा पार्ल्यमंट का मानसून सशन आज ख़तम‌ हो गया जबकि इस सशन में सारे इजलास हंगामों की नज़र होगए । मुतनाज़ा कोयला ब्लॉक्स अलाटमैंट मसले पर बी जे पी ने वज़ीर आज़म के इस्तीफ़ा के अपने मुतालिबा पर सारे सशन के दौरान हंगामा करते हुए कार्रवाई चलने नहीं दी ।

2009 के लोक सभा इंतिख़ाबात के बाद ये दूसरा सब से ज़्यादा मुतास्सिरा सशन रहा है । ऐवान की कार्रवाई जुमला 19 दिन चलनी थी जिस में सिर्फ छः दिन काम होसका और माबक़ी अय्याम में हुकूमत और बी जे पी के माबेन तात्तुल की वजह से ऐवान की कार्रवाई मुतास्सिर रही ।

2010 का सरमाई सशन सब से ज़्यादा मुतास्सिर रहा था कीवनका इस सशन में कोई कार्रवाई नहीं होसकी थी । उस वक़्त औपोज़ीशन जमातों ने 2G इसपेकटरम अलाटमैंट केस में मुशतर्का पारलीमानी कमेटी की तशकील का मुतालिबा करते हुए कुछ देर केलिए भी कार्रवाई चलने का मौक़ा नहीं दिया था ।

सदर नशीन राज्य सभा मिस्टर हामिद अंसारी ने ऐवान की कार्रवाई को गैर मीना मुद्दत केलिए मुल्तवी करते हुए कहा कि शायद ये सशन इस काम केलिए याद रखा जाएगा जो नहीं किया जा सका । इस से चंद ही मिनट क़बल स्पीकर लोक सभा मीरा कुमार ने लोक सभा की कार्रवाई को रिवायती इख़ततामी ख़िताब के बगैर गैर मीना मुद्दत केलिए मुल्तवी कर दिया था । वज़ीर आज़म मनमोहन सिंह और क़ाइद लोक सभा मिस्टर सुशील कुमार शनडे भी ऐवान के इलतिवा के वक़्त मौजूद थे ।

राज्य सभा में जनाब हामिद अंसारी ने कहा कि काम काज की जो तफ़सीलात हैं इस पर कोई तबसरा ज़रूरी नहीं है । उन्हें अफ़सोस है कि इस सशन में जुमला 62 घंटे का काम मुतास्सिर हुआ है ऐवान में सिर्फ तीन बिल्स‌ मंज़ूर किए गए और वकफ़ा-ए-सवालात सिर्फ एक मर्तबा मुम्किन होसके है । जुमला 399 सवालात शामिल एजंडा थे जिन में से सिर्फ 11 पर ही ग़ौर होसका ।

कोयला ब्लॉक्स अलाटमैंट पर कमपटरोलर एंड आडीटर जनरल की रिपोर्ट के बाद वज़ीर आज़म मनमोहन सिंह ने 27 अगसट को पार्ल्यमंट के दोनों ऐवान में एक बयान दिया था इस के बावजूद इस पर हंगामा आराई जारी रही । इस इजलास में औपोज़ीशन और हुकूमत के माबेन सिर्फ एक मसले पर इत्तिफ़ाक़ देखा गया । ये इत्तिफ़ाक़ नायाब सदर नशीन राज्य सभा की हैसियत से मिस्टर पी जे कोरियन के इंतिख़ाब के वक़्त देखा गया ।

सशन के आख़िरी दिन भी मिस्टर पी जे कोरियन को मुत्तफ़िक़ा तौर पर मुबारकबाद दी गई । इस सशन में क्रिकेट स्टार सचिन तनडोलकर ने रुकन पार्ल्यमंट की हैसियत से अपनी इन्निंगज़ की शुरूआत की और राज्य सभा के इजलास में शरीक रहे । उन्हें माह अप्रैल में राज्य सभा केलिए नामज़द किया गया था और ऐवान की कार्रवाई के दरमियान उन्हों ने रुकन राज्य सभा की हैसियत से हलफ़ लिया था । लोक सभा में हालाँकि हुकूमत ने 30 बलज़ ग़ौर कैवल्य रखे थे ताहम इन में सिर्फ चार को मंज़ूरी मिल सकी ।

TOPPOPULARRECENT