Sunday , August 20 2017
Home / India / पीएम मोदी की अपील के बाद बरेलवी तंजीम ने वहाबियत की मुखालफ़त शुरू की

पीएम मोदी की अपील के बाद बरेलवी तंजीम ने वहाबियत की मुखालफ़त शुरू की

पीएम मोदी ने बरेलवी मौलानोओं से सुन्नी मसलक को इन्तेफापसंदी के ख़िलाफ़ खड़े होने की अपील के बाद मौलानाओ ने वहाबियत की मुखालफ़त शुरू कर दी है ,बरेलवी मौलानोओं ने मुल्क भर में वक्फ बोर्ड से वहाबी को बहार निकालने की मांग की है .

आल इंडिया तंजीम उलेमा ए इस्लाम ने दहशतगर्दी के ख़िलाफ़ दिल्ली में पीर के रोज़ कांफ्रेंस की जिसमे इन्तेहांपसंदी के लिये वहाबी विचारधारा को ज़िम्मेदार ठहराया इसके पीछे सऊदी अरब और क़तर के पेट्रो डालर को वजह बताया .

आल इंडिया तंजीम उलेमा ए इस्लाम का कहना है ISIS भारत में भी सऊदी अरब और क़तर के वहाबी राजाओ के पैसे से अलग अलग नाम और बैनर के तहत कांफ्रेंस और जलसे कर रहा है .तंजीम ने वहाबी और सलफी पे पाबन्दी लगाने की मांग की .

जलसे में बड़ी तादात में लोगो की मौजूदगी के बीच तंजीम ने वहाबी मसलक के वक्फ बोर्ड और मुस्लिम इदारो पे मौजूदगी को ख़त्म करके के लिए मुहीम छेड़ने के अजेंडे पे मुहीम छेड़ने का एलान किया .

पिछले साल अगस्त में पीएम मोदी ने मुल्क भर के 40 बरेलवी मौलानाओं से मुलाकात में कहा था इन्तेहापसंदी की वजह से सूफी आइडियोलॉजी कमज़ोर हो गयी है .उन्होंने सूफी जानकारों को सोसल मीडिया और दुसरे माध्यम से विरोध करने की अपील की थी जिससे भारत में इन्तहा पसंद अपनी जड़े ना जमा पाये हलाकि मुलाक़ात में पीएम मोदी ने वहाबी समुदाय पे किसी तरह से दहशतगर्दी या इन्तेहपसंदी के सम्बन्ध में कोई टिप्पड़ी नही की थी .

TOPPOPULARRECENT